रेलवे टेंडर दिलाने के नाम पर ठगी

मुंबई

अपराध शाखा ने रेलवे में टेंडर दिलाने के नाम पर लोगों के साथ ठगी करने के आरोप में एक रेलवे के अधिकारी को गिरफ्तार किया है। चूंकि अधिकारी टेंडर विभाग में था और उसे सारी जानकारी थी, इस वजह से हूबहू नकली पेपर बनाने का आयडिया देकर वह बाकी के लोगों के साथ मिलकर ठगी करता था। पुलिस ने पहले मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद एक गिरफ्तारी नासिक से की गई और फिर दूसरे आरोपी को मध्य प्रदेश से गिर तार कर लिया गया है। आरोपियों ने शिकायतकर्ता के पास से करीब पौने तीन करोड़ रुपए ठग लिए थे। आरोपी ने रेलवे का स्टैंप लगा हुआ लेटर भी शिकायतकर्ता को यह बताने के लिए दिया था कि उन्हें टेंडर मिल गया है। दो अलग-अलग जगहों पर टेंडर दिलाने के नाम पर ठगी की गई। प्राप्त जानकारी के मुताबिक पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए आरोपियों के नाम स्वप्निल गोसावी (33) और अनिल कुमार मक्खनलाल अहिरवार (52) है। अहिरवार महालक्ष्मी स्थित ईएमयू में सीनियर सेक्शन इंजीनियर पद पर कार्यरत है। गिरफ्तार आरोपियों में से एक आरोपी पर गुजरात में रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने का आरोप है। दरअसल आरोपियों ने शिकायतकर्ता से संपर्क कर ट्रेन के दो डिब्बे को जोड़ने के लिए लगनेवाले हॉर्स पाइप का टेंडर दिलाने के लिए कहा था। आरोपियों ने अलग-अलग बहाने बताकर शिकायतकर्ता से 2 करोड़ 2 करोड़ 73 लाख 36 हजार 540 रुपए ठग लिए।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget