फ्रांस के खिलाफ मुस्लिम देशों में थम नहीं रहा गुस्सा

 बंग्लादेश में पैगंबर के कार्टून के विरोध में सड़कों पर उमड़ा हुजूम

France flag

ढांका/पेरिस

पैगंबर मोहम्मद साहब के कार्टून के विरोध में फ्रांस के खिलाफ मुस्लिम देशों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। दुनिया के कई मुल्कों में मुस्लिम समुदाय फ्रांसीसी वस्तुओं के बहिष्कार का आह्वान कर रहा है। सबसे ज्यादा आपत्ति फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों के इस्लाम पर दिए गए विवादित बयान को लेकर है। मैक्रों ने कहा था कि कि इस्लाम संकट में है। बांग्लादेश की राजधानी ढाका में मंगलवार को लगभग 10,000 लोगों ने पैगंबर के कार्टून के विरोध में जुलूस निकाला। लोगों ने फ्रांसीसी वस्तुओं के बहिष्कार की गुजारिश की ।

उधर, पाकिस्तान ने पैंगंबर के कार्टून के प्रकाशन और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के बयान पर तीखा विरोध जताया। पाकिस्तान ने सोमवार को फ्रांसीसी राजदूत मार्क बरेती को तलब कर कड़ी नाराजगी जताई। यही नहीं पाकिस्तान की संसद ने सरकार से पेरिस से अपना दूत वापस बुलाने तक की मांग कर डाली। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि इस तरह के गैरकानूनी और इस्लाम विरोधी कृत्य पाकिस्तान समेत पूरी दुनिया भर में मुस्लिम समाज की भावनाओं को आहत करते हैं। ऐसे कदमों को जायज नहीं ठहराया जा सकता है।

आलम यह है कि कुवैत में तमाम स्टोरों से फ्रांसीसी वस्तुओं को हटा लिया गया है। यहां तक कि कतर विश्वविद्यालय ने फ्रांसीसी सांस्कृतिक सप्ताह को ही रद्द कर दिया है। सऊदी अरब एवं संयुक्त अरब अमीरात में लोगों से कैरेफोर ग्रोसरी स्टोर चेन से दूर रहने की गुजारिश की गई है। इन बहिष्कारों का कोई बड़ा असर तो नहीं देखा जा रहा है लेकिन इस तरह के विरोन ने दुनियाभर में एक माहौल तो बना ही दिया है। बीते दिनों तुर्की, बांग्लादेश और गाजा पट्टी में विरोध प्रदर्शनों का आयोजन किया गया।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget