स्ट्रॉबेरी से बढ़ाएं याददाश्त

 हृदयरोग से बचाव में भी कारगर 

strawberry
गाड़ी की चाबी इधर-उधर रखने की आदत से परेशान हैं? बाद में चाबी खोजते समय पूरा घर सिर पर उठा लेते हैं? अगर हां तो भूलने की इस बीमारी को हल्के में न लें और नियमित रूप से स्ट्रॉबेरी का सेवन शुरू कर दें। जर्नल न्यूट्रिएंट्स में छपे रश यूनिवर्सिटी के हालिया अध्ययन में यह सलाह दी गई है। 

 स्ट्रॉबेरी में फ्लैवेनॉयड और विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। दोनों ही तत्व अपने एंटी-ऑक्सिडेटिव गुणों के लिए जाने जाते हैं। ये फ्री-रैडिकल को तंत्रिका तंत्र में मौजूद कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने से रोकते हैं। इससे बढ़ती उम्र में याददाश्त और तर्क शक्ति में गिरावट की शिकायत नहीं सताती। एक साथ कई काम निपटाने, सही-गलत में अंतर करने और त्वरित फैसले लेने की क्षमता भी बनी रहती है। 
मुख्य शोधकर्ता पूजा अग्रवाल की मानें तो स्ट्रॉबेरी अल्जाइमर्स और डिमेंशिया जैसी घातक बीमारियों से बचाव में भी कारगर है। शोध में शामिल जिन प्रतिभागियों ने हफ्ते में दो से तीन बार स्ट्रॉबेरी खाई, उनमें दोनों ही बीमारियों के खतरे में 34 फीसदी तक की कमी दर्ज की गई। पूर्व में हुए कुछ अध्ययनों में स्ट्रॉबेरी को हृदयरोग और स्ट्रोक से बचाव में भी कारगर करार दिया जा चुका है। 

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget