रोकी जाए रेमडेसीवीर की कालाबाजारी: फड़नवीस

fadnavis
मुंबई
शुक्रवार को विधानसभा में विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर कोरोना के इलाज में काम आने वाली रेमडेसीवीर दवा की कालाबाजारी पर तत्काल रोक लगाने की मांग की।
मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में फड़नवीस ने कहा कि कोरोना से संक्रमित मरीजों के लिए उपयोग में आने वाली रेमडेसीवीर दवा की राज्य में कमी हो गई है। नतीजतन राज्य में बड़ी संख्या में दवा की कालाबाजारी शुरू है। इसे गंभीरता से लेते हुए सरकार तत्काल दवा की कालाबाजारी पर रोक लगाए। फड़नवीस ने गरीब मरीजों को निजी और सरकारी अस्पतालों में मुफ्त में दवा उपलब्ध कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि राज्य में मौजूदा समय में रोज करीब 20,000 नए मरीज निकल रहे हैं और हर रोज करीब चार सौ से अधिक मरीजों की मृत्यु हो रही है। कोरोना के उपचार के लिए यह महत्वपूर्ण दवा है, इसलिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि इसकी आपूर्ति सुचारू रूप से की जा सके। विपक्ष के नेता ने कहा कि राज्य के कई जिलों के अस्पतालों में रेमडेसीवीर दवा उपलब्ध न होने के कारण बड़ी संख्या में कोरोना से संक्रमित गरीब जनता का इलाज नहीं हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि दवा की उपलब्धता को लेकर राज्य सरकार कितने भी दावा करे, लेकिन अस्पतालों में इसकी कमी बताई जा रही है। उन्होंने कहा कि गरीब मरीजों से रेमडेसीवीर दवा खरीदने को कहा जा रहा है। दवा की कीमत को देखते हुए आम आदमी इसे खरीद नहीं पा रहा है, जिसके कारण राज्य में लगातार मृत्यु दर में इजाफा हो रहा है। फड़नवीस ने कहा कि राज्य सरकार ने दवा की खरीद के लिए एक अंतरिम प्रक्रिया शुरू की है, लेकिन यह प्रक्रिया त्रुटिपूर्ण थी और कई जिलों से खरीदी गई दवा के भंडार को वापस करना पड़ा। रेमडेसीवीर की कमी से मरीजों को बेहद नुकसान हो रहा है। इसलिए एक नई खरीद प्रक्रिया को लागू करके यह स्टॉक जिला प्रशासन को तुरंत उपलब्ध कराया जाना चाहिए। साथ ही रेमडेसीवीर को सरकारी और निजी अस्पतालों में सभी गरीब मरीजों के लिए नि:शुल्क उपलब्ध कराया जाना चाहिए।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget