चीनी वायरस के संकट से जूझ रहा नेपाल

कहा- और अधिक मरीजों को नहीं दे सकते हैं इलाज, दोबारा लॉकडाउन का ही सहारा

Airport Scanning
काठमांडू
चीन से निकले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया के साथ नेपाल को भी बड़े संकट में डाल दिया है। वैसे तो यह वायरस अेमेरिका, भारत, ब्राजील सहित दुनिया के बड़े-बड़े देशों में भी बड़ी संख्या में लोगों की जान ले चुका है, लेकिन नेपाल के लिए यह संकट इसलिए भी गंभीर है, क्योंकि छोटे से पर्यटन आधारित अर्थव्यवस्था वाले देश में महामारी से लड़ने के लिए संसाधन का अभाव है। नेपाल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने साफ कहा है कि यदि एक्टिव केस 25 हजार से अधिक हो जाते हैं तो उनका देश इतने मरीजों को संभालने की स्थिति में नहीं है। ऐसे में उसके पास लॉकडाउन ही एक सहारा है।
नेपाल में इस समय एक्टिव केसों की संख्या 22 हजार के करीब पहुंच चुकी है। जिस स्पीड में कोरोना केस बढ़ रहे हैं, माना जा रहा है कि एक सप्ताह के भीतर 25 हजार से अधिक एक्टिव केस होंगे और देशभर में दोबारा सख्त लॉकडाउन लागू हो सकता है।
नेपाल के प्रमुख अखबार काठमांडू पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, स्वास्थ्य विभाग के मुख्य स्पेशलिस्ट डॉ. रोशन पोखरियाल ने कहा, 'जोखिम गंभीरता के साथ बढ़ रहा है। गंभीर मरीजों के उपचार के लिए इस्तेमाल हो रहे मौजूदा संसाधन एक्टिव केसों के 25000 हजार पार होने के बाद अतिरिक्त मरीजों को हैंडल नहीं कर पाएंगे'।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget