महंगाई डायन खाएगी इमरान की कुर्सी

सत्ता से बेदखल करने सड़कों पर उतरेगी जनता

इस्लामाबाद
पाकिस्तान आर्थिक तंगी के दलदल में धंसता जा रहा है। पाकिस्तान की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। पाकिस्तान में भ्रष्टाचार और अर्थव्यवस्था की बदहाली के चलते लोगों में सरकार के खिलाफ गुस्सा बढ़ रहा है। इस समय पाकिस्तान की गरीबी पर गेहूं की मार बहुत ज्यादा पड़ रही है। आलम यह है कि वहां एक किलो गेहूं की कीमत 60 रुपये तक पहुंच चुकी है। पाकिस्तान मीडिया में छपी खबरों के अनुसार, इस समय 40 किलो के गेहूं के बोरी की कीमत 2400 रुपये है। इस समय देश में सब्जियों के भाव भी सातवें आसमान पर है। सितंबर 2020 में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक 9 फीसदी रहा।
ऑल पाकिस्तान फ्लोर एसोसिएशन ने केंद्र और राज्य सरकारों से गेहूं का खरीद मूल्य तुरंत निर्धारित करने की मांग की है। फ्लोर एसोसिएशन का कहना है कि देश में गेहूं की कमी मिल मालिकों की वजह से नहीं बल्कि जमाखोरों की वजह से है।
पाकिस्तान में महंगाई बढ़ना इमरान खान को बेचैन कर रहा है क्योंकि विपक्ष ने पहले ही महागठबंधन बनाकर सेना और इमरान खान सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इसी महीने से व्यवस्था परिवर्तन के लिए देशव्यापी आंदोलन किया जाना तय हुआ है। यह माना जा रहा है कि महंगाई से बेचैन जनता विपक्ष के साथ सड़कों पर उतर सकती है।
जनता में सरकार के प्रति रोष को देखते हुए इमरान खान को पसीना छूटने लगा है। वह महंगाई को लगाम लगाने की असफल कोशिश कर रहे हैं।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget