करगिल में बिना हथियार सैनिकों को भेजा गया था: नवाज


क्वेटा

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने रविवार को करगिल युद्ध को लेकर कुछ दावे किए। उनके दावों से जहां एक तरफ पाकिस्तान में सियासी पारा चढ़ने के आसार है, वहीं, इंटरनेशनल लेवल पर पाकिस्तान की फजीहत होने की भी पूरी संभावना है। शरीफ ने दावा किया कि करगिल युद्ध में सैनिकों के पास हथियार नहीं थे, मगर कुछ जनरलों ने युद्ध में झोंक दिया। बता दें कि करगिल युद्ध के दौरान नवाज शरीफ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री थे।

नवाज शरीफ ने तत्कालीन सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ पर इशारों में हमला करते हुए कहा है कि करगिल में हमाारे सैकड़ों जवानों को शहीद करवाने और पाकिस्तान को दुनिया में रुसवा कराने का फैसला फौज का नहीं, चंद जनरलों का था, जिन्होंने फौज को ही नहीं देश और कॉम को ऐसी जंग में झोंक दिया, जिसमें कोई फायदा नहीं हो सका।

उन्होंने कहा, वो लम्हा मेरे लिए तकलीफ का था, जब मुझे मेरे बहादुर सिपाहियों ने बतााया कि करगिल की ऊंची चोटियों पर खुराक तो दूर की बात हथियार तक नहीं भिजवाया गया। उन्होंने कहा, इसके पीछे कुछ किरदार शामिल थे, जिन्होंने खुद को बचाने के लिए सेना और देश को युद्ध की आग में झोंक दिया। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शरीफ ने क्वेटा में विपक्षी दलों के तीसरे सबसे बड़े सरकार विरोधी जलसे के दौरान ये बातें कहीं।

शरीफ ने सेना प्रमुख जनरल बाजवा पर भी हमला बोला

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने एक बार फिर पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल बाजवा पर निशाना साधा है। शरीफ ने बाजवा पर जनादेश चोरी का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने इमरान खान को आवाम के मैंडेट के खिलाफ जाकर प्रधानमंत्री बनाया है। इसका उन्हें लोगों को जवाब देना होगा।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget