राम मंदिर निर्माण: टेस्ट पाइलिंग के लिए एक दर्जन स्तंभ बनकर तैयार

लखनऊ
राम जन्मभूमि में विराजमान रामलला के मंदिर की नींव के फाउंडेशन का निर्माण 15 अक्टूबर के करीब शुरू हो जाएगा। कार्यदाई संस्था एलएण्डटी के विशेषज्ञों की मानें तो नींव के फाउंडेशन का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य जून 2021 तय किया गया है। इसके अन्तर्गत 13 हजार वर्ग मीटर क्षेत्रफल में एक मीटर व्यास के 12 सौ स्तंभ सौ फिट गहराई में कंक्रीट गला कर बनाए जाएंगे। इसके पहले 30 सितंबर तक टेस्ट पाइलिंग के अन्तर्गत प्रस्तावित एक दर्जन स्तंभ का निर्माण पूरा हो गया है। करीब सौ मीटर की दूरी पर एक सीध में चार-चार स्तंभों के तीन सेट तैयार किए गये हैं। अब इसकी क्षमता का परीक्षण होना है जिसके लिए आईआईटी, चेन्नई के विशेषज्ञों का इंतजार हो रहा है।
टेस्टिंग के बाद विशेषज्ञों की हरी झंडी मिलते ही मूल फाउंडेशन का काम शुरू हो जाएगा। कार्यदाई संस्था के सूत्रों का कहना है कि नींव का कार्य बहुत पेंचीदा है क्योंकि राम मंदिर को हजार साल तक अक्षुण्ण रखने के लिए इसके अनेक तकनीकी पहलुओं का परीक्षण होना है। इस दौरान प्रयुक्त सामग्रियों की क्षमता के साथ प्राकृतिक आपदाओं से लड़ने का सामर्थ्य भी देखना जरूरी है। यही कारण है समय लग रहा है। पुन: जब मूल मंदिर के ढांचे को खड़ा करना होगा तो उस कार्य में अपेक्षाकृत काफी कम समय लगेगा। राम मंदिर के भूतल व प्रथम तल पर लगने वाले पत्थरों की तराशी तो पहले ही हो चुकी है। नींव का कार्य होने के बाद तराशे गये पत्थरों को यथास्थान पर सेट ही करना है। फिर ढांचा खड़ा होने के बाद फिनिशिंग में थोड़ा अतिरिक्त समय लगेगा।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget