सुशांत सिंह राजपूत मामला : फर्जी एकाउंट धारकों के खिलाफ एफआईआर

Social Media
मुंबई
मुंबई पुलिस के सायबर अपराध शाखा ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सोशल मीडिया के जरिए फेक एकाउंट का इस्तेमाल कर मुंबई पुलिस को बदनाम करने और आपत्तिजनक टिप्पणियां करने वालों के खिलाफ साइबर सेल ने दो एफआईआर दर्ज की है। मुंबई साइबर सेल की पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) रश्मि करंदीकर के मुताबिक ट्विटर, इंस्टाग्राम, औऱ फेसबुक जैसे सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करते हुए टिप्पणियां करने वालों के खिलाफ यह एफआईआर दर्ज की गई है। दावा किया जा रहा है कि मुंबई पुलिस को बदनाम करने के लिए 80 हजार फर्जी एकाउंट बनाए गए थे और इन्हें कई देशों से चलाया जा रहा था। डीसीपी रश्मी करंदीकर ने बताया कि सोशल मीडिया पर कई लोग मुंबई कमिश्नर को ट्रोल करते हुए गालीगलौज कर रहे थे। इनमें से ज्यादातर एकाउंट फर्जी थे। इसलिए ऐसा करने वालों के खिलाफ आईटी एक्ट की धारा 67 के तहत एफआईआर दर्ज कर उनकी पहचान की कोशिश शुरू कर दी गई है। इसके अलावा एक और एफआईआर दर्ज की गई है, जिसमें ट्विटर एकाउंट पर एक शख्स ने मुंबई पुलिस आयुक्त के ट्विटर एकाउंट की नकल (मार्फ) तस्वीर बनाकर गलत दावों के साथ पोस्ट की गई थी। दोनों मामलों की छानबीन शुरू कर दी गई है।
मुंबई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने सोमवार को ही साइबर सेल को आदेश दिया था कि वह फर्जी सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए साजिश के तहत मुंबई पुलिस को बदनाम करने वालों की छानबीन करे। जांच के दौरान खुलासा हुआ है कि जिन सोशल मीडिया अकाउंट से सुशांत की मौत के लेकर आपत्तिजनक भाषा में मुंबई पुलिस पर निशाना साधा जा रहा था, उनमें से कई इटली, जापान, इंडोनेशिया, तुर्की, पोलैंड, थायलैंड, रोमानिया, फ्रांस जैसे देशों से पोस्ट किए जा रहे थे। कई पोस्ट विदेशी भाषाओं में थे, लेकिन जस्टिस फॉर सुशांत सिंह राजपूत, सुशांत सिंह राजपूत और एसएसआर जैसे हैशटैग के चलते पुलिस ने इनकी पहचान कर ली।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget