दीवाली पर 14 दिन की छुट्टी

Varsha Gaikwad

मुंबई

महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने स्कूली छात्रों और टीचर्स को दीपावली का तोहफा देते हुए 14 दिन की छुट्टी का एलान किया है। यानी अब राज्य के सभी स्कूलों में 7 नवंबर से 20 नवंबर तक छुट्टी रहेगी और इस दौरान ऑनलाइन क्लास नहीं चलेगी।

महाराष्ट्र की स्कूली शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने छुट्टियों के नए शेड्यूल का एलान करते हुए बताया कि पहले दीपावली के उपलक्ष्य में सिर्फ 5 दिन (12 नवंबर से 16 नवंबर) की छुट्टी का एलान किया था, लेकिन बाद में स्टूडेंट्स और टीचर्स के अनुरोध पर राज्य सरकार ने छुट्टियों की संख्या 9 दिन और बढ़ा दी है। जिसके बाद अब 7 नवंबर से 20 नवंबर तक पढ़ाई बंद रहेगी और 21 नवंबर को वापस स्कूल खुलेंगे। वर्षा गायकवाड़ का कहना है कि मई महीने से पहले परीक्षा ले पाना बिल्कुल भी असंभव है। ऐसे में छात्रों का शैक्षणिक सत्र बेकार न हो, इसलिए 23 नवंबर तक स्कूलों को खोले जाने का फैसला लिया जा सकता है।

23 नवंबर से फिर खुलेंगे स्कूल

महाराष्ट्र की स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने शुक्रवार को कहा है कि हमने सरकार के समक्ष प्रस्ताव रखा है कि 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं फरवरी या मार्च के बजाय मई में आयोजित की जानी चाहिए। साथ ही नौवीं, दसवीं, 11वीं और 12वीं की पढ़ाई के लिए स्कूलों में कक्षाएं 23 नवंबर से शुरू करने का प्रस्ताव राज्य सरकार को दिया है। मालूम हो कि इससे पहले महाराष्ट्र शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद ने कोरोना संक्रमण को लेकर लगाए गए लॉकडाउन के मद्देनजर पाठम्यक्रम में संशोधन किया है।

सत्र 2020-2021 के लिए पाठम्यक्रम में 25 फीसदी की कटौती की गई है। इसके अलावा जर्मन भाषा के पाठम्यक्रम में भी 25 फीसदी की कटौती की गई है। पाठम्यक्रम में कटौती की सूचना को विभागीय वेबसाइट पर भी दिया गया है। साथ ही कहा गया है कि पाठम्यक्रम की संशोधित सूची सभी उच्च विद्यालय के प्रधानाचार्य, शिक्षक और छात्रों के लिए है। साथ ही अभिभावकों और माता-पिता को भी सूचित करने की बात कही गई है। महाराष्ट्र की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने कहा है कि सूबे में आम तौर पर 15 जून के बाद से ही स्कूल शुरू हो जाते हैं। पहले 12वीं की परीक्षाएं फरवरी और 10वीं की परीक्षाएं मार्च के पहले सप्ताह में होती थी, लेकिन साल 2020 में कोरोना महामारी के कारण स्कूली पढ़ाई अब तक शुरू नहीं हो पाई हैं। उन्होने कहा कि हालांकि, हम लोगों ने ऑनलाइन, टेलीविजन और अन्य तरीकों से बच्चों की पढ़ाई की कोशिश की है।

महाराष्ट्र बोर्ड की परीक्षाओं की तैयारियों में भी करीब दो माह का वक्त लग जाता है। इसलिए परीक्षाएं मई माह में कराई जाएं। मई में परीक्षाएं कराना इसलिए भी जरूरी है कि इसके बाद बारिश शुरू हो जाती है। इससे नए सत्र में स्कूल खुलने में भी देरी होगी।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget