देश के 6 हवाईअड्डों पर होगा अडाणी समूह का कब्जा

Airport

नई दिल्ली

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने रविवार मध्यरात्रि से लखनऊ हवाईअड्डा 50 साल के पट्टे पर अडाणी समूह को सौंप दिया। इससे पहले 30 अक्टूबर की मध्यरात्रि से एएआई मंगलुरू हवाईअड्डे को भी इसी समूह को सौंप चुकी है । 

एएआई ने ट्वीट कर जानकारी दी, १दो नवंबर 2020 को एएआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने अडाणी समूह के साथ सहमति ज्ञापन पत्र पर हस्ताक्षर कर लखनऊ हवाईअड्डा समूह को सौंपा। केंद्र सरकार ने फरवरी 2019 में देश के छह प्रमुख हवाईअड्डे लखनऊ, अहमदाबाद, जयपुर, मंगलुरू, तिरुवनंतपुरम और गुवाहाटी का विशेष व्यवस्था के तहत निजीकरण किया। प्रतिस्पर्धी बोलियां लगाकर अडाणी समूह ने इन सभी हवाईअड्डों को 50 साल चलाने के अधिकार हासिल किया । इन हवाईअड्डों के परिचालन के समझौतों पर दोनों पक्षों के बीच 14 फरवरी को हस्ताक्षर किए गए थे । 

तीन अन्य हवाईअड्डे जयपुर, गुवाहाटी और तिरुवनंतपुरम के लिए छूट समझौतों पर दोनों पक्षों ने सितंबर में हस्ताक्षर किए थे । गौरतलब है कि 2 नवम्बर से लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे का पूरा कामकाज अडानी ग्रुप ने संभाल लिया । 

बता दें कि अडानी ग्रुप के पास इस एयरपोर्ट हित देश के और 5 एयरपोर्ट की जिम्मेदारी अगले 50 साल तक होगी. 34 साल पुराने लखनऊ हवाई अड्डे को सरकारी और खास उद्योगपतियों के इस्तेमाल के लिए सन 198 6 में बनाया गया था। 

जबकि 17 जुलाई 2008 को इस एयरपोर्ट को यात्रियों के लिए शुरू किया गया। उसके बाद मई 2012 में लखनऊ एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय स्तर का दर्जा मिला।आज लगभग 160 से अधिक विमानों का यहां से संचालन होता है और 55 लाख से अधिक यात्री सालाना यहां से सफर करते हैं। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget