आधुनिक तकनीक से लैस मुंबई पुलिस

Police

मुंबई

मुंबई पुलिस आधुनिक तकनीक से लैस होती जा रही है। शहर के महत्वपूर्व ठिकानों पर क्यूआर और बारकोड कोड सिस्टम लगाया गया है, जिससे पुलिस के गश्ती दल पर नजर रखी जा सकेगी। यह डिजिटल सुविधा दक्षिण मुंबई में प्रयोग के आधार पर शुरू की गयी है। यहां यह सुविधा यहां सफल होती है, तो इसे पूरे शहर में लागू किया जाएगा।

पुलिस सुरक्षा के काम होंगे पारदर्शी

मुंबई पुलिस ने क्यूआर और बारकोड कोड सिस्टम को गेटवे ऑफ़ इंडिया और सीएसएमटी स्टेशन समेत बहुत महत्वपूर्ण स्थानों पर लगाया है। इसके तहत निर्धारित स्थानों पर तैनात गश्ती दल के जवानों का हिसाब-किताब रखा जा सकेगा। यह सिस्टम पुलिस सुरक्षा के काम को और पारदर्शी बनाएगी। अक्सर देखा गया है कि जिन महत्वपूर्ण ठिकानों पर पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाता है, वे कहीं दूसरे कामों में व्यस्त हो जाते हैं। ऐसे में कई बार महत्वपूर्ण ठिकानों पर कोई वारदात या घटना होती है, तो उस समय पुलिसकर्मी मौजूद नहीं रहते हैं। इससे बड़ी वारदात होने का अंदेशा बना रहता है। महत्वपूर्ण ठिकानों पर क्यूआर और बारकोड कोड सिस्टम लगने से गश्ती दल के सदस्यों को वहां से हटना संभव नहीं होगा। अब जिन पुलिसकर्मियों की महत्वपूर्ण स्थानों की सुरक्षा के लिए तैनाती होगी, उन्हें उन स्थानों पर जाना होगा और क्यूआर कोड को स्कैन करना होगा। इसलिए यह स्पष्ट हो जाएगा कि वह संबंधित स्थान पर गश्त पर था या नहीं। डिजिटल सिस्टम से गश्ती दल के सदस्यों का महत्वपूर्ण ठिकानों पर मौजूदगी का हिसाब-किताब रखा जा सकेगा।

हर दो घंटे में गश्त करना अनिवार्य

गेटवे ऑफ इंडिया जैसे कुछ स्थानों को इस सुविधा के लिए चुना गया है। इन स्थानों पर हर दो घंटे में गश्त करना अनिवार्य किया गया है। सभी पुलिस स्टेशन को अपने क्षेत्र के महत्वपूर्ण स्थानों की सूची बनाने को कहा गया है। वहां के गश्ती दस्तों को डिजिटल किया जाएगा और महत्वपूर्ण स्थानों पर क्यूआर और बारकोड को लागू किया जाएगा।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget