भाई ओवैसी ममता दीदी की मदद को तैयार

Mamta Owaisi

कोलकाता

बिहार में पार्टी के प्रदर्शन से गदगद ऑल इंडिया मजलिस-ए-इोहादुल मुसलिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी की निगाहें अब पश्चिम बंगाल पर हैं। ओवैसी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से हाथ मिलाने का प्रस्ताव दिया है। ओवैसी ने ममता के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन की पेशकश करते हुए कहा कि उनकी पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को हराने में तृणमूल कांग्रेस की मदद करेगी।

बिहार के सीमांचल क्षेत्र में पांच सीटें जीतने के बाद एआईएमआईएम का आत्मविश्वास काफी बढ़ा हुआ है। ऐसे में ओवैसी ने ऐलान किया था कि वह पश्चिम बंगाल चुनाव में भी अपने उम्मीदवार उतारेंगे। एआईएमआईएम की नजर अल्पसंख्यक आबादी वाले मालदा, मुर्शिदाबाद और उत्तरी दिनाजपुर पर है।

ममता ने ओवैसी को बताया था 'बाहरी'

ओवैसी का टीएमसी को समर्थन वाला बयान ऐसे समय पर आया है कि जब हाल ही में ममता बनर्जी ने एआईएमआईएम पर अप्रत्यक्ष रूप से हमला बोलते हुए कहा था कि कुछ बाहरी लोगों को परेशान और आतंकित करेंगे। इसी के साथ उन्होंने राज्य की जनता से बाहरियों का विरोध करने का आग्रह किया था।

ओवैसी की एंट्री से ममता को कितना नुकसान

बता दें कि बंगाल चुनाव में एआईएमआईएम की एंट्री को टीएमसी खतरे के रूप में देख रही है। दरअसल इस बार विधानसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला भाजपा और टीएमसी के बीच होना तय है। वहीं बंगाल कांग्रेस और लेफ्ट की भी लड़ाई ममता से ही है। ऐसे में अगर ओवैसी की पार्टी बंगाल में मजबूती से उतरती है तो इसका सीधा नुकसान ममता को ही झेलना पड़ सकता है। टीएमसी सांसद सौगता रॉय ने दावा किया था कि एआईएमआईएम को भगवा पार्टी ने टीएमसी के वोट-प्रतिशत को कम करने के लिए लगाया है, जबकि कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा था कि ओवैसी की पार्टी का लक्ष्य ध्रुवीकरण का है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget