महाराष्ट्र के कुछ इलाकों में खुले स्कूल

छात्रों की उपस्थिति रही बेहद कम

School

मुंबई

महाराष्ट्र में आखिरकार कई जगहों पर छात्रों के लिए स्कूल खोल दिए गए हैं। छात्र अब स्कूल जाकर प्रत्यक्ष रूप से अपनी पढ़ाई कर सकते हैं। महाराष्ट्र सरकार ने कुछ दिनों पहले राज्य में 23 नवंबर से स्कूलों को खोलने का निर्णय लिया था। हालांकि स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति बेहद कम रही।

नौवीं से लेकर बारहवीं तक के छात्रों के लिए स्कूल खोले गए हैं। कई जिलों में अभी भी स्कूल बंद रखे गए हैं, जबकि सोलापुर, सातारा, औरंगाबाद, रत्नागिरी, उस्मानाबाद समेत 22 जगहों पर स्कूल सोमवार से खोले गए हैं। उस्मानाबाद जिले में नौवीं से लेकर बारहवीं तक के छात्रों ने महीनों बाद स्कूल के दर्शन किए।

स्कूल आने वाले छात्रों को प्रवेश द्वार पर ही पहले सैनिटाइजर के जरिए उनके हाथों को सैनिटाइज करवाया गया। मास्क लगाकर आए छात्रों ने आठ महीने बाद राष्ट्रगान कर पढ़ाई की शुरुआत की। उस्मानाबाद जिले के 481 स्कूलों के 78 शिक्षकों को कोरोना का संक्रमण हुआ है। हिंगोली में 23 तारीख से स्कूल नहीं शुरू होंगे। दिवाली के बाद जिले में कोरोना संक्रमितों के मामलों में खासी बढ़ोतरी देखी गई थी। इसके बाद प्रशासन ने यह फैसला किया है। फिलहाल छात्रों के अभिभावकों से बात करने के बाद इस रिपोर्ट को शासन को सौंपा जाएगा और उसके बाद में ही हिंगोली के लिए किसी निर्णय को लिया जाएगा। रत्नागिरी जिले के 458 स्कूलों में से 207 स्कूल शुरू किए गए हैं। 83 हजार 900 छात्रों में से 2 हज़ार 281 छात्रों के अभिभावकों ने सहमति पत्र दिया है। सबसे ज्यादा दापोली इलाके में 400 अभिभावकों ने सहमति पत्र दिया है, जबकि रत्नागिरी में 60 पेरेंट्स ने अपनी सहमति दी है। इस प्रकार सभी नियमों का पालन करते हुए स्कूल खोले गए हैं।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget