पुणे में फर्जी भर्ती रैकेट

सेना में भर्ती कराने के नाम पर लिए एक-एक लाख रुपए

Militatary placement racket

मुंबई

पुणे में एक फर्जी सेना भर्ती रैकेट का भंडाफोड़ कर तीन लोगों को पुणे क्राइम ब्रांच, साइबर सेल और मिलिट्री इंटेलीजेंस की टीम ने गिरफ्तार किया है। रविवार को एआईपीटी मैदान में कॉमन एंट्रेंस एग्जाम (सीईई) से पहले इन तीन आरोपियों को पकड़ा गया। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान जयदेव सिंह परिहार (क्लर्क), वेल सिंह रावत और रविंद्र राठौड़ के रूप में हुई है।

बीड में फिजिकल टेस्ट को पास कर चुके 17 उम्मीदवारों ने आरोप लगाया है कि वे रिटायर्ड क्लर्क द्वारा गुमराह किए गए थे कि उन सभी को भारतीय सेना में भर्ती किया जाएगा। इसके बदले में हर एक से डेढ़-डेढ़ लाख रुपए की रकम मांगी गई थी। उन्हें आश्वासन दिया गया था कि सेना के वरिष्ठ अधिकारी उनकी लिखित परीक्षा को पास करने में उनकी मदद करेंगे।

इसके बाद पुणे क्राइम ब्रांच पुलिस यूनिट-2 और 5 अधिकारियों ने 3 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। डीसीपी बच्चन सिंह से मिली जानकारी के अनुसार सभी 17 जवान मराठवाड़ा क्षेत्र के हैं और उन्हें भारतीय सेना में जवान के रूप में भर्ती कराने का वादा किया गया था। इसमें सबसे पहले राजस्थान के अजमेर के रहने वाले एक दलाल वेल सिंह को अज्ञात स्थान से शनिवार की रात को पकड़ा गया था। बाद में उसके सहयोगी और एक सेवारत सैन्य कर्मी नॉन कमीशंड ऑफिसर क्लर्क जयदेव सिंह परिहार को पुणे क्राइम ब्रांच ने पकड़ा।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget