मॉल को नोटिस नहीं, सील करना चाहिए

स्थायी समिति सदस्यों ने दिया निर्देश

BMC

मुंबई

मॉल में अवैध निर्माण पाए जाने और आग प्रतिबंधक उपाय नहीं किए जाने पर मॉल को नोटिस न देकर उन्हें सीधे सील किए जाने का निर्देश स्थाई समिति सदस्यों ने दिया। सदस्यों का कहना था कि आग प्रतिबंधक उपाय न होने और अवैध निर्माण के चलते होने वाली दुर्घटना में आम लोगों की जान जाती है, जान से खिलवाड़ करने का अधिकार किसी को नहीं है। मॉल में आग प्रतिबंधक उपाय नहीं होने के कारण यदि आगजनी की घटना होती है तो स्थानीय दमकल अधिकारी को जिम्मेदार माना जाए और उस पर 304 अ के तहत मामला दर्ज करने की मांग की गई।

गौरतलब हो कि सिटी सेंटर मॉल में लगी आग की घटना की जांच के बाद मॉल में लगभग एक हजार से अधिक दुकानें अवैध रूप से बनाए जाने की जानकारी खुद दमकल विभाग ने दी। दमकल विभाग ने यह जानकारी उस समय दी जब सिटी सेंटर मॉल पूरी तरह जलकर खाक हो गया था। आग बुझाने के लिए दमकल के जवानों को लगभग 56 घंटे तक मशक्कत करनी पड़ी थी. आग बुझाने में हुई देरी को लेकर मनपा सदन में दमकल जवानों के खिलाफ जमकर नाराजगी जताई। सभी ने सवाल उठाया कि मॉल में अवैध निर्माण होने और आग प्रतिबंधक उपाय न होने पर दमकल विभाग उन पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं करते। दमकल विभाग ने इस घटना के बाद मुंबई के 75 माल की जांच शुरू की जिसमें 29 मॉल में अवैध निर्माण और आग प्रतिबंधक उपाय नहीं करने पर सिर्फ नोटिस देने का काम किया गया। दमकल विभाग की इस कार्रवाई को लेकर मनपा विरोधी पक्ष नेता रविराजा ने कहा कि मॉल में अवैध निर्माण होने अथवा आग प्रतिबंधक उपाय नही करने पर उन्हें नोटिस देकर नहीं छोड़ा जाना चाहिए, बल्कि मॉल को तुरंत सील करना चाहिए। कांग्रेस नगरसेवक आसिफ जकरिया ने कहा कि मॉल को सील करने का अधिकार नही होने पर जिस तरह जर्जर इमारतों के सामने मनपा होर्डिंग लगाती है उसी तरह मॉल आदि में भी इस तरह की लापरवाही पाए जाने पर होर्डिंग लगाई जाए जिससे लोगों को यह पता चल सके कि मॉल में जाने से उनके जान माल को नुकसान हो सकता है। समाजवादी पार्टी नेता रईश शेख ने आरोप लगाया कि सिटी सेंटर में लगी आग के बाद मॉल पूरी तरह जर्जर हो चुका है इसके बावजूद सिटी सेंटर मॉल का स्ट्रक्चरल ऑडिट करने की भी नोटीस मनपा आधिकारियो ने नहीं दी। भाजपा नगरसेवक मकरंद नार्वेकर ने दमकल अधिकारियो पर मॉल मालिकों की मिलीभगत होने का आरोप लगाते हुए कहा कि अवैध मॉल एवं आग प्रतिबंधक उपाय नही होने पर किसी तरह की दुर्घटना होने और जानमाल का नुकसान होने पर स्थानीय दमकल अधिकारी पर भारतीय दंड संहिता 304 अ के तहत मामला दर्ज करने का नियम लागू किया जाए। इस तरह के कठोर नियम होने पर ही दमकल अधिकारियों की मिली भगत पर अंकुश लगेगा।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget