गोरेगांव-मुलुंड लिंक रोड की फिर बढ़ी लागत

मुंबई

पूर्वी और पश्चिमी उपनगर को जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली गोरेगांव-मुलुंड लिंक रोड मार्ग की ट्रैफिक की समस्या को दूर करने के लिए तैयार परियोजना की लागत बढ़ती ही जा रही है। इसे लेकर अब तक कई बार निविदा प्रक्रिया की गई, लेकिन हर बार सिर्फ खर्च ही बढ़ा है। जीएमएलआर को चौड़ा करने के लिए बनाई गई परियोजना का खर्च बढ़कर पंद्रह सौ करोड़ रुपए तक पहुंच गया है।

शुरुआत में इस परियोजना की लागत 4770 करोड़ रुपए थी। अब इस परियोजना में दो बोगदे (सुरंग) बनाने को लेकर अलग से निविदा प्रक्रिया की जा रही है। इसके लिए 6225 करोड़ रुपए का खर्च अपेक्षित है। 14 किलोमीटर लंबा यह लिंक रोड संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान (नेशनल पार्क) से होकर जाएगा। राष्ट्रीय उद्यान में पर्यावरण का नुकसान न हो, इसके लिए वहां पर 4.7 किलोमीटर लंबा भूमिगत मार्ग बोगदा बनाने की योजना है। अप्रैल 2020 में निकाले गए टेंडर के अनुसार दोनों बोगदे का काम एक पैकेज में था। उसके पहले साल भर टेंडर प्रक्रिया का मामला लटका हुआ था। तकनीकी अड़चन, लागत बढ़ने व अन्य वजहों से सितंबर में टेंडर रद्द कर दिया गया। अब दोबारा नार्थ व साउथ टनल की प्रक्रिया शुरू की गई है, जिसके अनुसार नार्थ बोगदे के लिए 3020 करोड़ रुपए के खर्च का अनुमान है, वहीं साउथ बोगदे पर 3205 करोड़ रुपए खर्च अपेक्षित है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget