दीपावली के बाद धार्मिक स्थलों-स्कूलों पर निर्णय

Uddhav Thackeray

मुंबई

राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या घटने के साथ मृत्यु दर में गिरावट आ रही है। यूरोप में आई कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए हमें तैयार रहने की जरूरत है। दीपावली के बाद धार्मिक स्थलों और स्कूलों को खोलने का निर्णय लिया जाएगा। यह विचार शनिवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सरकारी आवास वर्षा पर कोरोना की स्थिति को लेकर हुई वर्चुअल बैठक में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि 'मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी' का दूसरा चरण दिसंबर से शुरू होगा।

नियमों का पालन जरूरी

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में राज्य के सभी विभागीय आयुक्त और जिलाधिकारियों को संबोधित करते हुए सीएम ठाकरे ने कहा कि सरकार द्वारा चलाए गए 'मेरा परिवार मेरी जिम्मेदारी' अभियान से जनता को जागरूक करने और कोरोना को रोकने में काफी हद तक हम सफल हुए है। उन्होंने इस अभियान के दूसरे चरण को दिसंबर में भी प्रभावी ढंग से लागू करने की योजना बनाने के लिए निर्देश दिया। उन्होंने यह भी कहा कि दिवाली के अगले 15 दिन जागरूकता के दिन हैं, इसलिए सावधान रहें, मास्क पहनें, सोशल डिस्टेंसिग बनाए रखें और बार-बार हाथ धोने वाले नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित करें।

सुविधाओं को न हटाएं

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने जनता से कहा था कि यह युद्ध एक विश्व युद्ध है। हमने बिना हथियारों के संक्रमण से छुटकारा पाने के लिए लड़ाई लड़ी है, और हम सफल होते दिखाई दे रहे हैं। कोरोना महामारी के शुरूआती दौरे में हमने लॉकडाउन लागू किया था, लेकिन अब धीरे -धीरे सभी क्षेत्रों को खोला जा रहा है। कोरोना काल के दौरान गर्मियों और बरसात के मौसम में मौसमी बीमारियां न के बराबर थी, क्योंकि हमने स्वास्थ्य संबंधी सावधानी बरती थी, लेकिन अब ठंडी के महीने की शुरुआत हो चुकी है, इस अवधि में कोविड के अलावा अन्य बीमारियां भी फैल सकती हैं, विशेष रूप से हृदय रोग, निमोनिया, अस्थमा और फ्लू के रोगियों में सुपर स्प्रेडर परीक्षणों की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि अब प्राइवेट के साथ-साथ सरकारी कार्यालयों को भी खोला जा रहा है, जिसमें कर्मचारियों की उपस्थिति को कम करने और कुछ नवीन प्रयोगों को लागू करना आवश्यक है। मेरा परिवार मेरी जिम्मेदारी अभियान के तहत राज्य में स्वास्थ्य विभाग ने नया मानचित्र तैयार किया है। अभियान के लिए सहयोग करने वाले नागरिकों के साथ संपर्क रखना महत्वपूर्ण है। उनकी नियमित रूप से जांच करना जरूरी है, ताकि एक और लहर आने पर भी हम एक बड़ी आपदा से बच सकें। वर्तमान में अस्पताल या कोविड केयर सेंटर में स्थापित सुविधाओं को न हटाएं। आपको कुछ समय मिला है इसलिए किसी भी कमियों को खत्म करने की कोशिश करें। चिकित्सा प्रणाली को अपडेट करें, डॉक्टरों की समीक्षा करें, कर्मचारियों को कम न करें। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमितों की जांच संख्या और दूसरी लहर के लिए तैयारियों के बीच कर्मचारियों और सुविधाओं को तैयार करें, वैक्सीन दिसंबर के अंत या अप्रैल में आने की उम्मीद है। लेकिन तब तक, मास्क हाथ धोने, सुरक्षित दूरी के नियमों का पालन किया जाना चाहिए।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget