प्रवक्ताओं का संयमित होना जरूरी: पाटिल

Chandrakant Patil

मुंबई 

किसी विषय पर बोलने से पहले विषय को पूरी तरह समझना एक निरंतर प्रक्रिया है। प्रवक्ताओं को किसी भी मंच पर अपनी बात रखते समय संयमित रहना जरूरी है। शुक्रवार को रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी में भाजपा प्रवक्ता और पैनलिस्टों के लिए आयोजित अभ्यास वर्ग को संबोधित करते हुए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने यह बात कही। पाटिल ने कहा किसी भी विषय पर पार्टी की भूमिका रखने के लिए उस विषय का अध्ययन और चिंतन में निरंतरता हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए। पार्टी की भूमिका को पेश करने के लिए आवश्यक कौशल के बारे में जानकारी होना भी महत्वपूर्ण है। टेलीविजन चैनलों और अन्य प्लेटफार्मों पर चर्चा के दौरान संयम बहुत महत्वपूर्ण हैं। समय-समय पर ऐसी कक्षाओं के माध्यम से ज्ञान और कौशल को बढ़ाने के लिए कार्यक्रम करना आवश्यक है। 

अभ्यास वर्ग की शुरुआत में मुख्य प्रवक्ता केशव उपाध्ये ने कार्यक्रम आयोजित करने का मकसद संगठन को बताया। इस अवसर पर भाजपा के प्रदेश संगठन मंत्री विजयराव पुराणिक, प्रदेश महासचिव श्रीकांत भारतीय, प्रदेश उपाध्यक्ष माधव भंडारी, माधवी नाइक, सांसद डॉ. भारती पवार, मीडिया विभाग के प्रमुख विश्वास पाठक, रामभाऊ म्हालगी के प्रबोधिनी संचालक रविंद्र साठे के साथ भाजपा प्रदेश के सभी प्रवक्ता और पैनलिस्ट उपस्थित थे। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget