भू-माफियाओं पर योगी सरकार ने कसा शिकंजा

बहराइच

जिले में भू-माफियाओं पर पुलिस का शिकंजा कसता ही जा रहा है। एक भू-माफिया को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है जबकि दो महिलाओं सहित 11 नामजद व 3-4 अज्ञात के विरुद्ध धोखाधड़ी की धाराओं में केस दर्ज किया गया है। सन 1944 में एक व्यक्ति को दरगाह वफ नम्बर 19 की सिंघापरासी में पट्टे पर काश्तकारी को दी गई भूमि को भू माफियाओं ने हथिया कर प्लाटिंग कर बिक्री कर अरबों की धनराशि अर्जित की। पुलिस नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी को शिकंजा कस रही है। दरगाह थाने के सैय्यद सालार मसऊद गाजी दरगाह वफ नम्बर 19 की सिंघापरासी स्थित बड़ी भूमि का पट्टा रमजान अली को काश्तकारी के लिए सन 1944 में दिया गया था। भू-माफिया ने राजस्व विभाग के कुछ कर्मियों की मिली भगत कर इसे अपने नाम स्थानांतरित कराकर प्लाटिंग करा कर बेच कर अरबों रुपए की सम्पत्ति अर्जित की है। दरगाह थाने के इमामगंज निवासी अली हुसैन उर्फ पुत्तन पुत्र झगड़ू के मुताबिक, दरगाह शरीफ की सिंघापरासी स्थित भूमि का पट्टा काश्तकारी को दिया गया था। इस भूमि को षड्यंत्र व अभिलेखों में धोखाधड़ी कर भू-माफियाओं ने कब्जा कर प्लाटिंग कर ऊंची कीमतों में बेंचकर अकूत सम्पत्ति अर्जित की। महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि भूमि पर कब्जेदारी की कोशिशों पर एक वाद न्यायालय अतिरिक्त मजिस्ट्रेट कोर्ट में दायर है। यही नही कोर्ट ने इस भूमि की बिक्री पर 29 अक्तूबर 2013 को स्थगनादेश भी दिया। जो आज भी प्रभावी है। कोर्ट के आदेश का उल्लंघन कर भूमि की बिक्री की गई। सपा की प्रदेश में सरकार के दौरान इस मामले में अली हुसैन उर्फ पुत्तन ने थाने में तहरीर दी। इसके बावजूद राजनैतिक दवाब में केस दर्ज नहीं हुए। यही नहीं 18 नबंवर को शाम 6 बजे जब अली हुसैन उर्फ पुत्तन दरगाह शरीफ मस्जिद के पास से जा रहे थे। भू माफिया ने कोई कार्रवाई करने पर जान से मारने की धमकी भी दी। पीड़ित ने इन लोगों की ओर से जानमाल के खतरे की आशंका जताई।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget