गिरोह सरगना को पुलिस ने वेटर बनकर पकड़ा

 नवी मुंबई

गाड़ी चोरी का गिरोह चलाने वाले आरोपी को पकड़ने के लिए पुलिस खुद वेटर बन गई और जैसे ही वह होटल में आया पुलिस बनी वेटर ने उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी को पकड़ने के लिए पुलिस ने पहले उसके साथी को दबोचा और बाद में गिरोह का सरगना एंथोनी पॉल को गिरफ्तार किया गया।

अपराध शाखा को जानकारी मिली थी कि एंथोनी पॉल के गिरोह के लोग अंधेरी में नया कार्यालय खोलकर किराए पर देने के लिए गाड़ियां मांग रहे हैं। इसके बाद सीनियर इंस्पेक्टर एनबी कोल्हटकर के मार्गदर्शन में लक्ष्मण कोपकर ने अंधेरी इलाके में जाल बिछाया, जहां से पुलिस को उसका साथी सत्य प्रकाश वर्मा उर्फ बाबू के बोइसर इलाके में रहने की जानकारी मिली, लेकिन वह कभी- कभी ही घर पर आता था। पुलिस ने भी उसे पकड़ने के लिए उसके पास का ही घर किराए पर ले लिया और 30 अक्टूबर से 5 नवंबर तक वहां भाड़े पर रहे। पांच नवंबर को वह अपनी पत्नी को मिलने आया, तभी पुलिस ने उसे दबोच लिया। उसी से पुलिस को एंथोनी पॉल के बारे में जानकारी मिली, लेकिन वह दुबई का सिम इस्तेमाल करता था, जिससे लोगों को उसके बारे में पता न चले। बैंगलोर के एक होटल में पॉल के रहने की जानकारी मिली। जहां पर एपीआई संजय पवार और राहुल वाघ के साथ होटल में पहुंचे और तीन दिन तक वेटर बनकर वहीं पर रहे। तीसरे दिन पॉल रूम में आया और फिर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस को आशंका थी कि आरोपियों ने 300 से भी अधिक गाड़ियां गुजरात में बेची हैं। जिसके बाद गुजरात के अलग-अलग इलाके में छापेमारी कर 20 गाड़ियां जब्त की गई। आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस लगातार 25 दिन तक काम कर रही थी।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget