भाजपा युवा मोर्चा का 'मंदिर चलो अभियान'

Chalo mandir abhiyan

मुंबई

भारतीय जनता युवा मोर्चा मुंबई ने महाराष्ट्र में मंदिरों पर हटी पांबंदी का स्वागत करते हुए पूरे शहर में 'मंदिर चलो अभियान' का आव्हान किया है। भाजयुमो के मुंबई अध्यक्ष तेजिंदर सिंह तिवाना ने राज्य सरकार के मंदिर खोलने के असमंजस पर कहा कि महाराष्ट्र में ट्रेन, बार, रेस्टोरेंट, माल्स, मल्टीप्लेक्सेस सब कुछ तो खुला है, फिर मंदिर बंद रखने का कोई मतलब ही नहीं था। महाराष्ट्र की महाविकास आघाड़ी सरकार ने खुद को जनता से दूर कोरेंटाइन कर लिया और जनता की आस्था और विश्वास को लॉकडाउन में डाल दिया था, जबकि महामारी के इस दौर में लोगों को भगवान की शरण और शांति की ज्यादा जरूरत थी।

कोरोना के सभी प्रतिबंधों का पालन करने के लिए भक्तों की इच्छा के बावजूद सरकार ने अनुमति देने से इंकार करती रही। भारतीय जनता युवा मोर्चा के युवाओं ने घंटानाद आंदोलन के द्वारा बार-बार सरकार से मंदिरों को खोलने का अनुरोध किया, लेकिन सरकार को जनता की आस्था से ज्यादा राजस्व की चिंता थी, तभी तो मदिरा के लिए अनुमति दी गई, लेकिन मंदिरों के लिए नहीं। आप और मैं जब मंदिर जाते है तो एक पॉजिटिव एनर्जी (सकारात्मक ऊर्जा) मिलती है, एक विश्वास जागता है कि हालात चाहे जो भी हो, हम उसका सामना कर सकते हैं। हमारा ईश्वर में विश्वास हमें जीवन कि हर कठिनाई से मुकाबला करने का हौसला देता है। बहरहाल मंदिरों को खोलने का यह निर्णय जनता के विश्वास की जीत और छद्म सेक्युलर हो चुकी अधर्मी सरकार की हार है। भाजयुमो मुंबई ने मुंबई की जनता का आव्हान किया कि सभी लोग अपने अपने घरों के आस-पास स्थित मंदिरों में जाये और पूजा अर्चना करें। मंदिर चलो अभियान की शुरुआत करते हुए तिवाना ने कार्यकर्ताओं, स्थानीय नागरिकों एवं भजन मंडली के साथ ढोल-मंजीरों की ताल के बीच मालाड स्थित राम मंदिर तक पद यात्रा की।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget