सावधान: देश में कोरोना अभी जिंदा है

केंद्र ने रोकथाम के लिए बनाई टीमे

Crowd

नई दिल्ली

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का कहर जारी है। दुनिया भर में अब तक कोरोना से 5.67 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं कोरोना वायरस से 13.57 लाख से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, अब वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि कोविड-19 से दुनिया भर में अब तक संक्रमित हुए लोगों की संख्या की तुलना में कोरोना मरीजों की संख्या में छह गुना का इजाफा हो सकता है। ऐसे में अगर आप भी कोरोना वायरस से बचाव संबंधी नियमों में लापरवाही बरत रहे हैं, तो सावधान हो जाइए।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्रतिदिन कोरोना के नए मामलों और इससे होने वाली मौतों में इजाफा देखा जा रहा है। यही नहीं एनसीआर से लगे हरियाणा और राजस्थान के इलाकों में भी इसका असर देखा जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी बताया कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर रोकथाम के उपायों को लेकर हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और मणिपुर में उच्च स्तरीय केंद्रीय टीमें तैनात हैं।

दिल्ली में मास्क नहीं पहनने पर 2000 जुर्माना

कोरोन महामारी पर दिल्ली सरकार पर हाईकोर्ट की सख्ती के बाद अब अरविंद केजरीवाल सरकार ने ऐक्शन में आ गई है और सार्वजनिक जगहों पर मास्क नहीं पहनने वालों पर 2000 रुपये का जुर्माना लगाने की घोषणा की है। अभी तक मास्क नहीं पहनने पर 500 रुपये जुर्माने का प्रावधान था। लेकिन अब राज्य सरकार ने इसे चार गुणा बढ़ाने का फैसला किया है।

अहमदाबाद में लगेगा रात का कर्फ्यू

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते गुजरात सरकार ने रात का कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया है। यह कर्फ्यू शुक्रवार से लागू होगा। गुजरात प्रशासन ने गुरुवार शाम को यह जानकारी दी।

गुजरात प्रशासन ने कहा, ''राज्य सरकार ने अहमदाबाद में 20 नवंबर से रात 9 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक रोजाना कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है। यह फैसला तक तक लागू रहेगा, जब तक गुजरात में कोरोना वायरस की स्थिति बेहतर नहीं हो जाती है।

कोरोना योद्धाओं के बच्चों के लिए आरक्षण

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने शैक्षणिक वर्ष 2020-21 के लिए सेंट्रल पूल के तहत एमबीबीएस/बीडीएस सीटों के लिए उम्मीदवारों के चयन और नामांकन के दिशा-निर्देशों में एक नई श्रेणी का एलान किया है। इस श्रेणी को 'वार्ड्स ऑफ कोविड वॉरियर्स' नाम दिया गया है। सेंट्रल पूल के तहत आने वाली सीटों पर इस श्रेणी के जरिए उन उम्मीदवारों को चयनित किया जाएगा, जिनके माता-पिता की मौत कोरोना मरीजों के इलाज के दौरान हुई।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget