विधान परिषद से चार सदस्यों ने दिया इस्तीफा

 पटना  

सत्रहवीं विधानसभा चुनाव में एनडीए गठबंधन में भाजपा सर्वाधिक 74 सीट जीत कर सबसे बड़ी पार्टी बन गई है,लेकिन बिहार के उच्च सदन में बड़े भाई की भूमिका में अभी जदयू ही रहेगा। 

कुल 75 सदस्यों वाले विधान परिषद में 17 पद अभी रिक्त हैं। ऐसे में संख्या के हिसाब से सर्वाधिक 21 सदस्य विधान परिषद में जदयू के हैं। वहीं, भाजपा के 18, राजद के छह, कांग्रेस के चार, भाकपा के दो, लोजपा के एक, हम के एक और दो निर्दलीय सदस्य हैं। हालांकि दोनों निर्दलीय अशोक कुमार अग्रवाल और दरभंगा स्नातक सीट से जीत कर आए सर्वेश कुमार भाजपा से जुड़े हैं। दोनों भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य हैं। 

इन चार सदस्यों ने दिया इस्तीफा 

भाजपा की विधान परिषद में एक सीट सोमवार को विनोद नारायण झा के विधानसभा की सदस्यता ग्रहण के साथ ही रिक्त हो गई। इसी तरह जदयू के दो सदस्य दिलीप राय, और विजय यादव विधायक चुने गए हैं। वहीं, स्थानीय प्राधिकार क्षेत्र से चुने गए राजद के रीतलाल यादव के विधान सभा सदस्य चुने जाने से एक और पद खाली हो गया। चार सदस्यों ने विधान परिषद से इस्तीफा दे दिया है। सभी इस्तीफे की विधान परिषद के कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह ने पुष्टि की है। 

कौन-कौन जदयू के सदस्य 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अलावा डॉ. संजीव कुमार, रीना देवी उर्फ रीना यादव, मनोरमा यादव, सलमान रागीब, दिनेश प्रसाद सिंह, गुलाम रसूल, सीपी सिन्हा, बीरेंद्र नारायण यादव, तनवीर अख्तर, खालीद अनवर, राम ईश्वर महतो, संजीव श्याम सिंह, संजय कुमार झा, संजय प्रसाद, राधा चरण साह, कमर आलम, रणविजय कुमार सिंह, नीरज कुमार और देवेश चंद्र ठाकुर के नाम जदयू के 21 सदस्यों में हैं। 

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget