किसान ने अस्पताल की छत से कूदकर की आत्महत्या

मुंबई

महाराष्ट्र में किसानों की आत्महत्या का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। राज्य में सरकारें बदलती रहती हैं, लेकिन किसानों की तकदीर जस की तस बनी हुई हैं। ताजा मामला महाराष्ट्र के जलगांव जिले का है। जहां एक किसान ने कर्ज के बोझ तले दबकर अपनी जीवन लीला को समाप्त कर लिया।

जलगांव जिले के अमलनेर तहसील में एक किसान ने कर्ज के बोझ से मजबूर होकर आत्महत्या कर ली। मृतक किसान का नाम प्रवीण शिवाजी पाटील (47) था, जिसने साहूकार से कर्ज लिया था, लेकिन वह उसे चुका नहीं पा रहा था। कर्ज और ब्याज के टेंशन में वह इतना परेशान हो गया कि उसे कुछ भी सूझ नहीं रहा था। इसी टेंशन के चलते प्रवीण ने अस्पताल की इमारत से कूद कर अपनी जान दे दी।

मृतक ने खेती के लिए साहूकारों से कर्ज लिया था, लेकिन खेती में लगातार हो रहे नुकसान की वजह से प्रवीण की मुश्किलें बढ़ती जा रही थी। वह साहूकारों के रोजाना तकादे से भी काफी परेशान थे और उनकी जीने की इच्छा भी इसी वजह से खत्म होती जा रही थी।

राज्य में कोई भारी बारिश की वजह से लाखों हेक्टेयर भूमि की फसल बर्बाद हुई है, इसकी वजह से किसानों की मुसीबत बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है, ऐसे में हर भी किसान सरकार के तरफ उम्मीद भरी नजरों से देख रहा है। अब जरूरत है कि सरकार भी समय से इन किसानों की मदद करे। वरना परेशानी और कर्ज के बोझ तले दबे किसान ऐसे आत्मघाती कदम ना उठाएं। सरकार वक्त रहते किसानों को मुआवजा राशि प्रदान करती है तो किसानों की दिवाली भी अच्छी हो सकती हैं।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget