खिताबी जंग आज

Rohit Shreyas

दुबई 

पांचवां खिताब जीतने के इरादे लेकर उतरने वाली सितारों से सजी मुंबई इंडियंस मंगलवार शाम साढ़े सात बजे आईपीएल फाइनल में उतरेगी तो उसके सामने पहली बार खिताबी मुकाबले में जगह बनाने वाली आत्मविश्वास से ओतप्रोत दिल्ली कैपिटल्स खड़ी होगी जिसके पास मैच विनर्स की कमी नहीं है। रोमांच से भरपूर मुकाबलों के 52 दिन पूरे होने के बाद अब इस आईपीएल का एक आखिरी मुकाबला बचा है। खास इसलिये कि तमाम चुनौतियों और बाधाओं के बावजूद इसके सफल आयोजन ने दर्शकों को कोरोना वायरस महामारी से पैदा हुई नकारात्मकता से निजात पाने में मदद की है। आईपीएल के सबसे सफल कप्तान रोहित शर्मा की नजरें पांचवें खिताब पर हैं। वहीं, दिल्ली पिछले बारह सालों में फिसड्डी साबित होने के बाद पहली बार इस मुकाम तक पहुंची है। ऐसा बहुत कम ही होता है कि सबसे प्रबल दावेदार दो टीमें ही खिताब के लिये आपस में टकरायें। इस बार हालांकि शीर्ष दो टीमें ही आमने सामने हैं। 

मुंबई ने 15 में से 10 मैच जीते जबकि, दिल्ली ने 16 में से नौ मैचों में जीत दर्ज की। मुंबई के खिलाड़ियों ने टूर्नामेंट में शुरू ही से दबदबा बनाये रखा। मुंबई के बल्लेबाजों ने 130 छक्के जड़े हैं, जबकि दिल्ली ने 84 छक्के जमाये हैं। ङ्क्षक्वटान डिकॉक का प्रदर्शन खास तौर पर काबिले तारीफ रहा। वहीं रोहित ने अपनी हैमस्टिं्रग चोट को लेकर तमाम आशंकाओं को निर्मूल साबित करते हुए अच्छी कप्तानी की। ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिये भारतीय टीम में नहीं चुने जाने के गम को भुलाकर सूर्यकुमार यादव ने जिस तरह बल्लेबाजी की, वह मिसाल बन चुकी है। अब तक वह 60 चौके और 10 छक्के लगा चुके हैं। ईशान किशन ने 29 छक्के लगाये हैं। दिल्ली के गेंदबाज कागिसो रबाडा (29 विकेट) और एनरिक नोर्जे (20 विकेट) अगर इन दोनों से पार पा भी लेते हैं तो पंड्या बंधु की चुनौती भी आसान नहीं है। दोनों जबर्दस्त फार्म में भी हैं। 

दिल्ली के लिये शिखर धवन 600 से अधिक रन बना चुके हैं। अब उन्हें जसप्रीत बुमराह और ट्रेंट बोल्ट के सटीक यार्कर और इनस्विंग का सामना करने के लिये कुछ खास करना होगा। इस सीजन में तीन मैचों में मुंबई ने दिल्ली पर एकतरफा जीत दर्ज की है, लेकिन अगर सबसे अहम मुकाबले में दिल्ली बाजी मार लेती है तो ये तीनों हार बेमानी हो जाएंगी। दूसरे क्वालीफायर में लगा कि दिल्ली ने सही टीम संयोजन तलाश लिया है। पारी की शुरुआत मार्कस स्टोइनिस से कराने का फैसला सही रहा। श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत के औसत फार्म को देखते हुए शिमरन हेटमायर पर तेज बल्लेबाजी का जिम्मा होगा। 

पावरप्ले में आर अश्विन पर बड़ी जिम्मेदारी होगी। इसके साथ ही इस मैच के जरिये अय्यर का भविष्य में भारतीय टीम की कप्तानी के लिये दावा पुख्ता हो सकता है। अब देखना होगा कि इस बार खिताब कौन अपने नाम करता है। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget