साध्वी के बयान पर बिहार में बवाल

पटना

अपने विवादित बोल के लिए चर्चा में रहतीं आईं भारतीय जनता पार्टी  की सांसद साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। उनके बयान पर राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के अंदर ही बवाल मच गया है। बिहार में एनडीए के घटक हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा  के अध्‍यक्ष जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा  से कहा है कि वे प्रज्ञा ठाकुर को समझा दें। प्रज्ञा ठाकुर उन्‍हें शूद्र और आतंकवादी का फर्क नहीं बताएं।

विदित हो कि प्रज्ञा ठाकुर ने सोमवार को भोपाल के पास सीहोर में क्षत्रिय समाज के एक कार्यक्रम में कहा था कि क्षत्रिय को क्षत्रिय कहने पर वे बुरा नहीं मानते। इसी तरह ब्राह्मण तथा वैश्य को वैश्य कहने पर भी उन्‍हें बुरा नहीं लगता है। पर, शूद्र को शूद्र कहने पर वह बुरा मान जाता है। प्रज्ञा ठाकुर ने पूछा कि आखिर इसका क्‍या कारण है? उनमें नासमझी है, इसलिए वे समझ नहीं पाते हैं। इस बयान के लिए प्रज्ञा ठाकुर पूरे देश में आलोचना की शिकार हो रही हैं। विपक्ष, इसे बीजेपी की मानसिकता बताकर हमलावर है। बिहार में एनडीए के सहयोगी जीतन राम मांझी भी इससे भड़के हुए हैं।

 नड्डा से बोले: अपनी बड़बोली सांसद को समझा दीजिए

जीतन राम मांझी ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से आग्रह किया है कि वे अपनी बड़बोली सांसद प्रज्ञा ठाकुर को अनुसूचित जाति व जनजाति समाज को अपमानित नहीं करने को लेकर समझा दें। प्रज्ञा ठाकुर हमें नहीं बताएं कि कौन शूद्र है और कौन आतंकवादी है। मांझी ने कहा है कि प्रज्ञा ठाकुर अपने बयान के लिए देश के दलितों से माफी मांगें। वे हमेशा दलितों को अपमानित करने वाले बयान देती रहतीं हैं।

इस मामले में बिहार बीजेपी के नेताओं ने मौन साध लिया है। बीजेपी नेता गुरु प्रकाश ने कहा कि उन्‍हें प्रज्ञा ठाकुर के बयान के संदर्भ की जानकारी नहीं है। यह उनका निजी बयान हो सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए देश के सभी लोग समान हैं। प्रधानमंत्री 'सबका साथ सबका विकास' चाहते हैं।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget