डिसले जैसे शिक्षकों से बढ़ेगा शिक्षा का स्तर

विश्व स्तरीय पुरस्कार पाने पर सीएम ने किया सम्मान 

 


मुंबई 

शिक्षा क्षेत्र में विश्व स्तर का पुरस्कार पाने वाले सरकारी शिक्षक रणजीत सिंह डिसले ने महाराष्ट्र का नाम विश्व में ऊंचा किया है, जिसके लिए मुझे गर्व महसूस हो रहा है। डिसले जैसे शिक्षकों के सहयोग से शिक्षा का स्तर बढ़ेगा। यह विचार सोमवार को सह्यïाद्रि अथिति गृह में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने व्यक्त किए। 

यूनेस्को और लंदन स्थित वार्की फाउंडेशन द्वारा संयुक्त रूप से दिए गए सर्वोत्तम शिक्षक पुरस्कार पाने वाले रणजीत सिंह डिसले के स्वागत समारोह में डिसले का स्वागत करने के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि डिसले ने शिक्षा की दुनिया में सर्वोच्च पुरस्कार हासिल किया है, जिसे देखते हुए राज्य की शिक्षा गुणवत्ता को उच्च दर्जे का बनाने के लिए शिक्षकों के साथ अंतिम छात्र तक उच्च गुणवत्ता वाली एक योजना तैयार की जाए। ठाकरे ने कहा कि डिसले को यह पुरस्कार शिक्षक होने के लिए नहीं बल्कि शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए मिला है। सीएम ठाकरे ने कहा कि डिसले की शिक्षा के क्षेत्र में काम करने की इच्छा का पता चलता है। शिक्षा विभाग को राज्य के अंतिम छात्रों के लिए शिक्षा व्यवस्था सुलभ बनाने के लिए डिसले की तरह प्रौद्योगिकी-प्रेमी और अभिनव शिक्षकों की मदद से काम करना चाहिए। कार्यक्रम में उपस्थित राज्य के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने डिसले को बधाई देते हुए कहा कि सोलापुर जैसे सूखा प्रभावित क्षेत्र में एक जिला परिषद के एक शिक्षक ने यह पुरस्कार प्राप्त किया। इस पुरस्कार ने साबित कर दिया है कि इन स्कूलों में काम बेहतरीन है। प्रौद्योगिकी और असाधारण कार्यों में उनके अभिनव प्रयोगों के कारण उन्हें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों में से एक के रूप में स्थान दिया गया है। उन्हें जिला परिषद शिक्षकों के वैश्विक चेहरे के रूप में देखा जाता है। उनके द्वारा बनाई गई क्यूआर कोडेड किताबें राज्य के एक करोड़ से अधिक बच्चों द्वारा इस्तेमाल की जा रही हैं, और दुनिया भर के स्कूलों में लागू की जा रही है। स्कूल शिक्षा विभाग को अपने ज्ञान का उपयोग छात्रों को अधिक सुखद और ज्ञानवर्धक शिक्षा प्रदान करने के लिए करना चाहिए। राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने कहा कि जिला परिषद स्कूल विश्व स्तर की शिक्षा प्रदान कर रहे हैं और अब जिला परिषद स्कूलों को अंग्रेजी स्कूलों के साथ प्रतिस्पर्धा के रूप में मान्यता दी जा रही है। इसके लिए राज्य को डिसले जैसे शिक्षक पर गर्व है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे ने श्रीफल और सम्मानचिन्ह देकर रणजीत सिंह डिसले का सत्कार किया। इस अवसर पर राज्य की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़, परिवहन मंत्री अनिल परब, पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे सहित कई अन्य मंत्री और अधिकारी उपस्थित थे। 

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget