चार डीडीसी सदस्यों ने संस्कृत में शपथ लेकर बनाया इतिहास

oath ceremony

जम्मू

जम्मू-कश्मीर में डीडीसी चुनावों में पहली बार इतिहास बना है। पहली बार किसी ने शपथ ग्रहण समारोह में संस्कृत भाषा का इस्तेमाल किया है। डीडीसी के नवनिर्वाचित चार सदस्यों ने संस्कृत में शपथ ग्रहण ली है।

जिला उधमपुर से नवनिर्वचित सदस्य परीक्षित सिंह, जूही मन्हास, पिंकी देवी तथा जिला सांबा से शिल्पा दुबे ने देववाणी संस्कृत में शपथ ग्रहण की है। इसके अलावा बिश्राह से देवेन्द्र कुमार ने डोगरी भाषा में शपथ ग्रहण की। इससे पहले कभी भी संस्कृत में शपथ नहीं ली गई है। इन उम्मीदवारों की तरफ से पहले ही प्रशासन को सूचित किया गया था कि वह संस्कृत में शपथ लेंगे।

जानकारी के अनुसार उम्मीदवारों को शपथ से पहले भाषा के बारे में पूछा जाता है। जिसके बाद इन पांच की तरफ से अपनी भाषा संस्कृत तथा डोगरी बताई गई। उसके बाद उधमपुर जिला के कार्यक्रम में तीन ने सांबा में एक ने संस्कृत में तथा जम्मू जिले के कार्यक्रम में एक ने डोगरी में शपथ ली है। इनमें जूही मन्हास उधमपुर से चुनाव जीत कर आई है। वह भाजपा के रामनगर के विधायक की पत्नी है। सोमवार को शपथ होने के बाद अब अगले 20 दिनों में हर जिले में चेयरमैन बनाए जाएंगे। पंचायत राज कानून के अनुसार अगले 20 दिनों में हर जिले में चेयरमैन बनाना जरूरी है।

20 जिलों का शपथ ग्रहण पूरा

शपथ समारोह सभी 20 जिलों में हो गया है। उसके बाद भाजपा, कांग्रेस, अपनी पार्टी तथा गुपकार के दलों ने अपने अपने स्तर पर काम शुरू कर दिया है। शपथ के बाद से ही हर जिले में इस कुर्सी पर अपने दल के किस नेता को बिठाया जाएगा। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget