कोरोना का असर बाजार में हाहाकार

एक दिन में निवेशकों के डूबे सात हजार करोड़ 


मुंबई 

आज सप्ताह के पहले कारोबारी दिन यानी सोमवार को शेयर बाजार धड़ाम हुआ। बाजार की ऐतिहासिक तेजी में निवेशकों ने मुनाफा वसूली शुरू कर दी है। वैश्विक स्तर पर कुछ देशों में लॉकडाउन और कोरोना के मामले बढ़ने से भी बाजार पर असर दिखा। इसलिए बाजार में गिरावट आई। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 3.00 फीसदी की गिरावट के साथ 1406.73 अंक नीचे 4553.96 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 3.14 फीसदी (432.15 अंक) की गिरावट के साथ 13328.40 के स्तर पर बंद हुआ। 

पिछले सप्ताह बीएसई मानक सूचकांक 861.68 अंक यानी 1.86 फीसदी मजबूत हुआ था। सूचकांक ने वर्ष 2020 में हुए पूरे नुकसान की भरपाई कर ली है। यह एक जनवरी 2020 को 41,306.02 पर बंद हुआ था। हालांकि विश्लेषकों के अनुसार, आगे बाजार में उतार-चढ़ाव जारी रहेगा। इसलिए निवेशकों को सावधानी बरतनी चाहिए।

इस सप्ताह इन कारकों से प्रभावित होगा बाजार

घरेलू शेयर बाजार में किसी बड़ी गतिविधियों के अभाव में इस सप्ताह वैश्विक घटनाक्रम खासकर अमेरिका में वित्तीय प्रोत्साहन और कोविड-19 टीके से जुड़ी खबरों से बाजार को दिशा मिलेगी। विश्लेषकों के अनुसार अवकाश के कारण कम कारोबार दिवस वाले सप्ताह के दौरान घरेलू बाजार में मुनाफावसूली भी देखने को मिल सकती है। क्रिसमस के मौके पर शेयर बाजार और वित्तीय बाजार शुक्रवार को बंद रहेंगे। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) के निवेश प्रतिरूप पर भी निवेशकों की नजर होगी। बाजार में तेजी का एक प्रमुख कारण एफपीआई का निवेश रहा है।

सेंसेक्स के सभी शेयर नुकसान में रहे। ओएनजीसी के शेयर में करीब 9 प्रतिशत की गिरावट आई। इंडसइंड बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एबसीआई, एनटीपीसी, आईटीसी, एक्सिस बैंक और पावरग्रिड के शेयर भी 7 प्रतिशत तक टूट गए। घरेलू शेयर बाजारों में जबर्दस्त बिकवाली दबाव देखने को मिला। एक दिन में निवेशकों की करीब 7,000 अरब रुपये की पूंजी डूब गई। बीएसई में लिस्टेड कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 185 लाख करोड़ रुपये से गिरकर 178 लाख करोड़ रुपये रह गया।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget