‘किसान आंदोलन बना सियासी गुटों की लड़ाई’

kisan protest

नयी दिल्ली

भाजपा ने राजधानी दिल्ली की विभिन्न सीमाओं और देश के कुछ अन्य स्थानों पर तीन कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन को सोमवार को राजनीतिक गुटों कीलड़ाई बताया। भाजपा ने कहा किजबसे ये कृषि कानून आए हैं तबसे देश में जितने भी चुनाव हुए हैं, उसमें भाजपा कीजीत हुई है जो दर्शाती है किगांव, गरीब और किसान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ खड़ाहै। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्राने यहां पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘किसान आंदोलन किसानों कीनहीं बल्किराजनीतिक गुटों कीलड़ाई हो गई है। आम आदमी पार्टी और कैप्टन अमरिंदर सिंह के ट्विटर वार को देखिए। वो आपस में एक दूसरे से लड़ रहे हैं। ये किसानों के हित के लिए नहीं, आपस में सत्ताकीलड़ाई लड़ रहे हैं।’ पात्राने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा किसानों के समर्थन में उपवास करने पर निशाना साधते हुए कहा कि आमआदमी पार्टीने पंजाब विधानसभा चुनावों के अपने घोषणापत्र में एपीएमसी कानून में संशोधन का वादा किया था और इसी साल नवंबर में दिल्ली में केंद्र के तीन कृषि कानूनों को अधिसूचित भी किया। उन्होंने कहा, ‘केजरीवाल जो हंगर स्ट्राइक कर रहे हैं वह नींबू पानी से खत्म होने वाला नहीं है। यह सत्ता की भूख है। यह कुर्सीसे हीमिटती है।’ भाजपा नेता ने कहा कि बिहार से लेकर अब तक जितने भी चुनाव हुए हैं उनके नतीजे अब तक भाजपा के पक्ष में आए हैं और विपक्षीदल देश में किसान आंदोलन को लेकर एक भ्रमफैलाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, गरीब, ग्रामीण, किसान इस देश की रीढ़ हैं। पिछले दिनों में विभिन्न राज्यों में हुए चुनावों में भाजपा कीजीत इस लिए हुई क्योंकिकिसान, गरीब और मजदूर हमारे साथ खड़ाहै।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget