बाबा आमटे की पोती ने की आत्महत्या

Sheetal Amte

चंद्रपुर

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के करीबी सहयोगी एवं प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता स्वर्गीय बाबा आमटे की पोती एवं महारोगी सेवा समिति की सीईओ डॉ. शीतल आमटे कराजगी ने सोमवार को कथित तौर पर खुदकुशी कर ली। शीतल ने आनंदवन स्थित अपने निवास पर खुद को जहर का इंजेक्शन लगा लिया और मामले की जानकारी मिलने के बाद उन्हें इलाज के लिए पास के चंद्रपुर के वरोड़ा उप जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

शीतल आमटे पूरे आनंदवन की प्रभारी मंत्री थीं और वह बाबा आमटे की तीसरी पीढ़ी का नेतृत्व कर रही थीं। वह विकास और भारती आमटे की बेटी और राष्ट्रपिता गांधी के अनुयायी बाबा आमटे की पोती हैं, जिन्होंने महाराष्ट्र राज्य के आनंदवन में कुष्ठरोगियों के लिए एक पुनवार्स घर की स्थापना की थी।

स्वास्थ्य देखभाल, पुनवार्स, शिक्षा और कृषि से लेकर आर्थिक सशक्तिकरण कार्यक्रमों तक, सुविधाओं को चलाने के लिए उनकी'महारोगी सेवा समिति की स्थापना की गई है। आमटे ने मेडिसिन की पढ़ाई की और बाद में वह अपने दादा की परंपरा को निभाते हुए आनंदवन में काम करने वाले अपने परिवार में शामिल हो गईं। वर्ष 2016 में, वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम द्वारा आमटे को यंग ग्लोबल लीडर नामित किया गया था। वह संयुक्त राष्ट्र के इनोवेशन एंबेसडर और आई4पी (शांति के लिए नवाचार) के सलाहकार के रूप में भी चुनी गईं।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget