ऑस्ट्रेलिया को चुनौती देगी टीम इंडिया

पहला टेस्ट मैच आज 


टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच गुरुवार से चार टेस्ट मैचों की सीरीज शुरू होने जा रही है. एडीलेड में खेले जाने वाले डे नाइट मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई टीम की नज़र पिंक बॉल के साथ अपना दबदबा बनाने की होगी, जबकि विराट कोहली की अगुवाई में टीम इंडिया मेजबान खिलाड़ियों की चोट की समस्या का फायदा उठाने की कोशिश करेगी. ऑस्ट्रेलियाई मीडिया कारोबारी कैरी पैकर ने 1970 के दशक में चैनल नाइन पर अपनी विश्व सीरीज दिन-रात्रि टेस्ट मैचों को प्रोमोट करते हुए एक शानदार कैप्शन दिया था, ''बिग ब्वाएज प्ले एट नाइट.'' यहां तक कि 2020 में भी सीरीज के लिये इससे उचित कैप्शन नहीं मिल सकता जिसमें कोहली की शानदार बल्लेबाजी का सामना स्टीव स्मिथ की रन जुटाने की निरंतरता से हो, जिसमें चेतेश्वर पुजारा के क्रीज पर टिके रहने की जिद को युवा मार्नस लाबुशेन चुनौती दे. साथ ही दोनों टीमों के तेज गेंदबाज गुलाबी गेंद से लाइट्स के अंदर गेंदबाजों के दिमाग से खेलने की कोशिश करेंगे. हेजलवुड और शमी के बीच मुकाबला भी काफी रोमांचक होगा जबकि पैट कमिंस के बाउंसर का जवाब जसप्रीत बुमराह अपने यार्कर से देना चाहेंगे. ईशांत शर्मा जैसा अनुभवी तेज गेंदबाज भारतीय टीम में शामिल नहीं है तो वहीं आस्ट्रेलियाई लाइन-अप को अपने स्टार डेविड वार्नर की कमी खलेगी. हालांकि आस्ट्रेलियाई टीम को ज्यादा दिन-रात्रि टेस्ट खेलने का अनुभव है और उसे घरेलू परिस्थितियों का फायदा निश्चित रूप से मिलेगा. दिन-रात्रि टेस्ट मैच की अपनी खासियत है जिसमें बल्लेबाजों के पहले सत्र में हावी होने की उम्मीद होती है, जबकि जब सूरज छिप जाता है तो गेंदबाजों की तूती बोलती है, क्योंकि गुलाबी कूकाबूरा की रफ्तार तेज हो जाती है. टीम इंडिया के सामने कुछ चुनौतियां हैं. सबसे बड़ी दुविधा सलामी बल्लेबाजी के स्थान को लेकर है जिसमें पृथ्वी साव और मयंक अग्रवाल की जोड़ी न्यूजीलैंड की तेज पिचों पर फ्लाप रही थी. शुभमन गिल के रूप में भारत के पास भविष्य का खिलाड़ी मौजूद है लेकिन क्या कोहली और कोच रवि शास्त्री इस युवा को मौका देने को तैयार हैं या फिर वे लोकेश राहुल के टेस्ट मैचों के लचर रिकार्ड की अनदेखी कर उनके अनुभव पर भरोसा करेंगे? मैच से दो दिन पहले भी स्थिति स्पष्ट नहीं हुई है, हालांकि गिल को अपनी बल्लेबाजी से एलेन बार्डर और सुनील गावस्कर का वोट मिला है जिनके नाम उस चमचमाती ट्राफी पर हैं जिसे विजेता टीम को दिया जायेगा. क्या राहुल छठे स्थान के लिये फिट हो सकते हैं? लेकिन फिर यह हनुमा विहारी की कीमत पर ही होगा जिन्होंने भारतीय टीम के साथ दो वर्षों में कुछ भी गलत नहीं किया है और वह कुछ कामचलाऊ ऑफ ब्रेक गेंदबाजी भी कर सकते हैं. क्या वे यह जोखिम लेने को तैयार हैं? इस समय कोई भी नहीं जानता है. बल्लेबाज-विकेटकीपर ऋषभ पंत या विकेटकीपर-बल्लेबाज रिद्धिमान साहा के बीच में से किसकी ज्यादा जरूरत की लगातार चलने वाली बहस? पंत की दोयम दर्जे के आक्रमण के खिलाफ दूधिया रोशनी में 73 गेंद में खेली गयी 100 रन की पारी की तुलना में साहा ने मुश्किल परिस्थितियों में लाल गेंद से प्रथम श्रेणी मैच में अर्धशतकीय पारी खेली थी. लेकिन पंत मैच विजेता हो सकते हैं जबकि साहा बल्ले से मैच बचाने में सर्वश्रेष्ठ हैं. लेकिन दोनों की तकनीक कमजोर हैं जिससे हेजलवुड, कमिंस, मिशेल स्टार्क और नाथन लियोन लगातार उनकी परीक्षा लेंगे.


पहले टेस्ट में केएल राहुल को नहीं मिली जगह

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 17 दिसंबर से शुरू हो पहले टेस्ट मैच के लिए भारतीय टीम की प्लेइंग इलेवन की घोषणा कर दी गई है। पहला टेस्ट मैच एडिलेड में डे-नाइट खेला जाएगा और इसके लिए पारी की शुरुआत करने की जिम्मेदारी मयंक अग्रवाल के साथ पृथ्वी शॉ के दी गई है। वहीं प्लेइंग इलेवन में हनुमा विहारी को भी मौका दिया गया है। केएल राहुल टेस्ट टीम में हैं, लेकिन उन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं देना एक चौंकाने वाला फैसला रहा। अभ्यास मैच में रिषभ पंत ने शानदार शतक लगाया था, लेकिन टीम मैनेजमेंट ने इसके बावजूद रिद्धिमान साहा पर अपना भरोसा दिखाया और उन्हें प्लेइंग इलेवन में शामिल किया गया। टीम में आर अश्विन बतौर स्पिन ऑलराउंडर शामिल किए गए हैं। पहले टेस्ट मैच में ओपनिंग करने मयंक अग्रवाल और पृथ्वी शॉ आएंगे जबकि तीसरे नंबर पर चेतेश्वर पुजारा हैं। चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए खुद कप्तान विराट कोहली आएंगे जबकि पांचवें नंबर पर अजिंक्य रहाणे होंगे जो टीम के उप-कप्तान भी हैं। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget