घर-घर पानी पहुंचाएगी सरकार

Uddhav Thackeray

मुंबई 

राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर पानी पहुंचानेके लिए जलजीवन मिशन अभियान की शुरुआत की गयी है। इस योजना में केंद्र और राज्य सरकार की 50-50 प्रतिशत भागीदारी रहेगी। बुधवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरेकी अध्यक्षता में योजना के क्रियान्वयन को लेकर आयोजित बैठक में सीएम नेकहा कि सरकार का मुख्य उद्देश्य राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू नलके माध्यम से स्वच्छ पानी पहुंचाना है। इस उद्देश्य को प्राप्त करनेके लिए जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी को पानी के लिए समयबद्ध योजना बनानेकी आवश्यकता है। 

उद्धव ठाकरेने संबंधित विभाग के अधिकारियोंको निर्देश दिया कि प्राकृतिक और कृत्रिम पानी के लिए एक जलयोजना तैयार की जानी चाहिए। वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से मुख्यमंत्रीने गढ़चिरौली, ठाणे, चंद्रपुर, रत्नागिरि, नांदेड़, सिंधुदुर्ग, जलगांव, लातूर, रायगढ़, नाशिक, अहमदनगर, वर्धा, जालना, कोल्हापुर जिलोंके विभाग और मुख्य कार्यकारी अधिकारियोंको संबोधित किया। ठाकरेनेकहा कि 31 मार्च, 2021 तक निर्धारित लक्ष्यको पूरा करते हुए, प्रत्येक जिलेके लिए उसकी जलस्थिति, जल उपलब्धता और जलसंसाधनोंके आधार पर जलसंग्रहण योजना तैयार की जानी चाहिए। इस योजना के अनुसार, जिन गांवोंमें पानी उपलब्ध है, वहां नल-जलप्रदाय योजनाएं प्राथमिकता के साथ पूरी की जा सकती हैं और जहां कोई प्राकृतिक जलस्रोत नहीं है, वहां एक जिलावार जलसंग्रहण योजना तैयार की जानी चाहिए और उसे अगली बैठक में प्रस्तुत की जानी चाहिए। जलजीवन मिशन अभियान के तहत योजनाओं को गांव के जलसंसाधनोंके साथ-साथ पानी के स्रोत को ध्यान में रखते हुए तैयार किया जाना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि राज्य सरकार इसके लिए धन की कमी नहीं होने देगी। राज्य के लिए पानी की आपूर्ति एक बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दाहै। हम सभी को हर परिवार को नलका जल उपलब्ध करानेके लक्ष्यको प्राप्त करनेके लिए प्रयास करना चाहिए। जलजीवन मिशन अभियान से पहले राज्य में राष्ट्रीय पेय जल योजना चालू थी। इसके तहत 3,400 योजनाएं अधूरी हैं। इसे पूरा करनेके लिए मुख्य कार्यकारी अधिकारी को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करना चाहिए। मुख्यमंत्रीने कहा कि आवश्यक सेवाओं में काम करनेवाले कर्मचारियोंको किसी अन्य काम के लिए नियुक्त नहीं किया जाना चाहिए। ठाकरेने वर्ष 2020-21 के लिए कोल्हापुर जिलेके वार्षिक उद्देश्य को पूरा करनेके लिए जिले और संबंधित अधिकारियोंको बधाई दी। कोल्हापुर जिलेके उदाहरण को ध्यान में रखते हुए, अन्य जिलोंको भी पहल करनी चाहिए और दिए गए उद्देश्य को समयपर पूरा करना चाहिए। इस बैठक में शामिल राज्य के जलआपूर्ति और स्वच्छता मंत्री गुलाबराव पाटिलने कहा कि राज्य में 142.36 लाख परिवार हैं और इसका उद्देश्य हर परिवार को नलका जलआपूर्ति करना है। यह लक्ष्य अगले चार वर्षों में हासिल किया जाना है। वर्ष 2020-21 में 43.51 लाख पाइप कनेक्शन के लक्ष्यके साथ, 9 जिलोंमें 100 प्रतिशत घरोंमें नलका जलआपूर्ति करनेका निर्णय लिया गया है। इस अभियान के तहत राज्य के सभी गाँवों, मुहल्लोंमें 40 एलपीसीडी के अनुसार पेयजलकी सुविधा प्रदान करनेके लिए जलापूर्ति योजनाएँ लागू की जा रही हैं। जलजीवन मिशन के कार्य दिशा निर्देशोंके अनुसार, जलजीवन मिशन का मुख्य उद्देश्य 2024 तक व्यक्तिगत नल कनेक्शन के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के सभी घरोंमें 55 एलपीसीडी के अनुसार गुणवत्ता वाले पानी की आपूर्ति करना है। बैठक में राज्य के पर्यावरण मंत्रीआदित्य ठाकरे, जलआपूर्ति और स्वच्छता राज्य मंत्री संजय बबनसोड, मुख्य सचिव संजयकुमार, जलआपूर्ति और स्वच्छता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ संजय चंदे, जलजीवन मिशन के निदेशक श्रीमती आर. विमला और विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget