कांग्रेस विधायक चौधरी की सदस्यता रद्द

pradip chaudhari

चंडीगढ़

हरियाणा के कांग्रेस विधायक प्रदीप चौधरी की विधानसभा सदस्‍यता आपराधिक मामले में तीन साल कैद की सजा सुनाए जाने के कारण चली गई। इसके बाद पूर्व कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी द्वारा केंद्र में यूपीए सरकार के समय अध्‍यादेश फाड़ने का मुद्दा सामने आ गया। 

राहुल गांधी ने जिस विधेयक की प्रतियां फाड़ी थीं वही आज प्रदीप चौधरी के लिए फांस बन गया। सुप्रीम कोर्ट के आठ साल पुराने फैसले के आधार पर लोक प्रतिनिधित्व कानून के तहत सबसे पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री रशीद मसूद इसका शिकार हुए थे। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव इस कानून का दूसरा शिकार बने। हरियाणा में कालका से विधायक प्रदीप चौधरी पहले ऐसे जनप्रतिनिधि हैं, जिन्हें विधानसभा की सदस्यता से हाथ धोना पड़ा है। पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला सिर्फ इसलिए बचे रहे, क्योंकि उनकी सजा सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले की थी। रशीद मसूद और लालू यादव जब इस कानून की जद में आए, उस समय मसूद राज्यसभा सदस्य और लालू सांसद थे।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget