काशी की ​सड़कों से हटेंगे ​भिखारी

वाराणसी

वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की काशी तेजी से स्मार्ट सिटी बनने की ओर अग्रसर है। घाट से लेकर सड़कों, पार्कों, चौराहों, मंदिरों के आसपास तेजी से सुंदरीकरण हो रहा है। काशी के हृदय स्थल गोदौलिया-दशाश्वमेध की तो सूरत ही बदल दी गई है। काशी विश्वनाथ मंदिर को कॉरिडोर के जरिये भव्यता दी जा रही है। इससे पर्यटकों और श्रद्धालुओं की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। लॉकडाउन खुलने के बाद पिछले कुछ महीनों में उम्मीद से ज्यादा पर्यटक काशी पहुंचे हैं। इन पर्यटकों की आरामदेह यात्रा में जगह-जगह पर मौजूद भीख मांगने वाले लोग परेशानी का सबब बनते हैं। कई बार तो भिखारियों से पीछा छुड़ाने में पयर्टकों के पसीने छूट जाते हैं। भिखारियों के कारण ही वाराणसी का स्वरूप भी देश-विदेश में खराब होता है। कई बार भीख मांगने वाले गाली गलौज और अ​िभशाप देने पर उतर आते हैं। ऐसे में हर पर्यटक चाहता है कि उनका सामना भिखारियों से न हो। इन्हीं परेशानियों को दूर करने का अब रास्ता निकाला जा रहा है। बेघरों और अनाथों के लिए काम करने वाली वाराणसी की संस्था 'अपना घर आश्रम' ने इसके लिए एक प्रस्ताव तैयार किया है। इस प्रस्ताव का प्रजेंटेशन कमिश्नर और आला अधिकारियों की मौजूदगी में 25 जनवरी को होने जा रहा है। इस बैठक के लिए कमिश्नर ने 18 विभागों के अधिकारियों को बुलाया है। पुलिस, प्रशासन के साथ ही प्रोबेशन अधिकारी भी बैठक में मौजूद रहेंगे। सब कुछ ठीक रहा तो भिखारियों को अपना घर आश्रय स्थल पर शिफ्ट किया जाएगा। वहां इनके रहने, खाने और पुनर्वास की व्यवस्था होगी। कुछ सरकारी आश्रयस्थल भी इसके लिए चिह्नित हो सकते हैं।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget