बजट से पहले शेयर बाजार मायूस


नई दिल्ली

बजट 2021-22 से पहले शुक्रवार को इकोनॉमिक सर्वे संसद में पेश किया गया, लेकिन यह निवेशकों में उत्साह भरने में नाकाम रहा और शेयर बाजार में लगातार छठे दिन गिरावट रही। बीएसई सेंसेक्स 589 अंक यानी 1.26 फीसदी की गिरावट के साथ 46285.77 अंक पर बंद हुआ। इस गिरावट में रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी और आईटी के शेयरों की मुख्य भूमिका रही। डॉ रेड्डीज लैब और मारुति सुजुकी के शेयरों में सबसे अधिक 5 फीसदी की गिरावट आई। एनएसई का निफ्टी भी 183 अंक यानी 1.32 फीसदी की गिरावट के साथ 13635 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के 30 में से 26 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। फाइनेंस, बैंकिंग और रियल्टी को छोड़कर बीएसई के सभी सेक्टोरल इंडेक्स गिरावट के साथ बंद हुए। बीएसई टेलिकॉम में सबसे अधिक 2.97 फीसदी की गिरावट आई। इससे पहले बैंकिंग, ऊर्जा और वाहन कंपनियों के शेयरों में तेजी के दम पर शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 400 अंक से अधिक चढ़ गया था। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 403.16 अंक यानी 0.86 प्रतिशत की तेजी के साथ 47,277.52 अंक पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह एनएसई का निफ्टी 118.65 अंक यानी 0.86 प्रतिशत की बढ़त के साथ 13,936.20 अंक पर कारोबार कर रहा था। सेंसेक्स की कंपनियों में इंडसइंड बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एलएंडटी, ओएनजीसी, बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी बैंक और बजाज ऑटो लाभ में रहीं। इनके विपरीत एक्सिस बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, टेक महिंद्रा, अल्ट्रा टेक सीमेंट, मारुति सुजुकी और टीसीएस नुकसान में रहीं। पिछले पांच कारोबारी सत्रों में सेंसेक्स 2,917.76 अंक और निफ्टी 827.15 अंक गिरा था। विश्लेषकों का मानना है कि मुख्य रूप से केंद्रीय बजट और महत्वपूर्ण वैश्विक घटनाक्रमों से पहले मुनाफा वसूली के कारण घरेलू बाजारों में लगातार गिरावट देखी गयी।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget