एसटी की 'शिवशाही' वातानुकूलित सेवा बंद

 यात्रियों का प्रतिसाद नहीं मिलने से लिया गया निर्णय

shivshahi bus

मुंबइ

यात्रियों को आरामदायक सुविधा उपलब्ध कराने के लिए एसटी कॉर्पोरेशन द्वारा शुरू की गई महत्वपूर्ण सेवा शिवशाही वातानुकूलित स्लीपर सेवा बंद कर दी गई है। यह सेवा यात्रियों से कम प्रतिक्रिया मिलने सहित अन्य कारणों के चलते बंद की गई है। हालांकि एसटी की गैर-वातानुकूलित स्लीपर सेवा को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है, जो वर्तमान में चल रही है। 

गौरतलब हो कि अगस्त 2018 में शिवशाही स्लीपर वातानुकूलित बस सेवा में आई और पहली बस शिरपुर (धुले) से पुणे मार्ग पर चली। बाद में इस सेवा का विस्तार किया गया। एसटी ने इन बसों के लिए मुंबई, कोल्हापुर, जलगांव, परली, अक्कलकोट, अंबेजोगाई, पुणे से नांदेड़, लातूर से कोल्हापुर, औरंगाबाद से मुंबई सेंट्रल सहित अन्य मार्गों को चुना था। एक हजार रुपए से अधिक के किराए की तुलना में निजी बसों की सेवाओं की कम दर होने के कारण एसटी सेवाओं की तरफ लोग उदासीन हो गए। इसे देखते हुए फरवरी 2019 में विभिन्न मार्गों पर शिवशाही वातानुकूलित स्लीपर का किराया 230 रुपए से घटाकर 505 रुपए कर दिया गया, लेकिन इस सेवा में यात्रियों की भागीदारी का औसत 35 से 40 प्रतिशत ही रहा। इनमें से कुछ कंपनियां एसटी निगम द्वारा नियम और शर्तों और पट्टे पर देने वाली कंपनियों को हुए नुकसान को देखने के बाद सेवा से हट गईं। इसलिए कुल 68 में से केवल 30 वातानुकूलित स्लीपर बसें काफिले में शामिल रहीं। मार्च 2020 में तालाबंदी के कारण सेवा पूरी तरह से बंद हो गई थी। अब एसटी के बेड़े में कोई भी वातानुकूलित स्लीपर बस नहीं है और निगम ने इसे संचालित करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget