केस देरी से दर्ज करने पर थानाध्यक्ष सस्पेंड

भागलपुर

 बिहार के भागलपुर में युवती के साथ छेड़खानी के मामले में केस दर्ज करने में देरी और आरोपी पक्ष को फायदा पहुंचाने के लिए उसके आवेदन पर पीड़ित पक्ष पर फर्जी केस करने के आरोप में ललमटिया थानाध्यक्ष ओमप्रकाश को डीआईजी सुजीत कुमार ने सस्पेंड कर दिया। उन्होंने पीड़ित पक्ष की शिकायत के बाद एएसपी सिटी से मामले की जांच कराई थी। एएसपी ने जांच में ललमटिया थानाध्यक्ष पर लगे आरोप को सही बताया और उनके खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई की अनुशंसा की थी, जिसके बाद डीआईजी ने उसे सस्पेंड कर दिया। छेड़खानी की शिकार लड़की के पिता सीटीएस नाथनगर में सिपाही हैं, जबकि आरोपी लड़के विकास कुमार का पिता सीटीएस नाथनगर में ही हवलदार हैं और उसका भाई एसएसपी कार्यालय में तकनीकी सेल में पदस्थापित है। पीड़िता के पिता ने डीआईजी से शिकायत की थी कि आरोपी लड़के के भाई के दबाव में आकर आरोपी पक्ष का केस दर्ज कर लिया जो पूरी तरह से झूठा है। जांच में आरोप को सही पाये जाने के बाद ललमटिया थानाध्यक्ष को सस्पेंड कर एसएसपी को उनके खिलाफ विभागीय कार्यवाही शुरू करने का निर्देश दिया है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget