यूपी में क्राइम हुआ कम

लखनऊ

पुलिस मुख्यालय पर उत्तर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक कानून- व्यवस्था प्रशांत कुमार ने 2020 को यूपी पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती वाला वर्ष बताया। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के दौरान य़ूपी पुलिस द्वारा बेहद सराहनीय कार्य किया। उन्होंने बताया कि 12,000 से अधिक पुलिसकर्मी कोराना संक्रमित हुए और 65 पुलिसकर्मियों की संक्रमण के कारण मौत हुई। एडीजी ने पूरे साल डकैती में 20 फीसदी, लूट में 37 फीसदी, हत्या में पांच फीसदी, फिरौती-अपहरण में 15 फीसदी, गृहभेदन में 26 फीसदी और बलात्कार जैसे जघन्य अपराध में न सिर्फ 19 फीसदी कमी आने का दावा किया। बल्कि कहा कि इस वर्ष कोई भी साम्प्रदायिक या जातीय घटना न होने के साथ कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन कराते हुए सभी धर्मो के कार्यक्रम का सफल आयोजन कराया गया। प्रशांत कुमार ने बताया कि इस वर्ष एसटीएफ के सहयोग से 50,000 से ऊपर के 15 अपराधी एनकाउंटर में मारे गए। 74 अपराधी गिरफ्तार हुए। 1772 गैंग रजिस्टर कर गैंगस्टर एक्ट के तहत माफियाओं और अपराधियों की 668 करोड़ पांच लाख 63 हजार 352 रूपये की चल-अचल संपत्ति जब्त की गई। वहीं 199 अपराधियो के खिलाफ राष्टीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत भी कार्रवाई की गई। एडीजी ने बताया कि इस वर्ष महिलाओ की सुरक्षा के लिए भी यूपी पुलिस द्वारा आपरेशन मिशन शक्ति शुरू किया गया। जिसके तहत महज ढाई माह के भीतर प्रदेश के 1535 थानों में महिला हेल्प डेस्क की स्थापना कर महिलाओ की शिकायतो¢ं पर त्वरित कार्रवाई की जा रही है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget