हम किसानों से नहीं खरीदते अनाज, न ही कांट्रैक्ट फार्मिंग के लिए कर रहे जमीन अधिग्रहण: अडानी एग्री


नई दिल्ली

अडानी एग्री लॉजिस्टिक्स ने उसके खिलाफ हो रहे दुष्प्रचार पर अपना पक्ष रखा है। कंपनी ने कहा है कि वह किसानों से कोई अनाज नहीं खरीदती है। वह सिर्फ अनाज भंडारण के लिए साइलो का निर्माण करती है। कंपनी ने कहा है कि फूड कॉरपोरेशन आफ इंडिया (एफसीआई) ने अनाज भंडारण के लिए साइलो बनाने हेतु वर्ष 2005 में ग्लोबल टेंडर मंगाया था। उसमें दुनियाभर की दर्जनों कंपनियां शामिल हुई थीं और अडानी ने सबसे कम बोली लगाकरa साइलो का निर्माण कार्य हासिल किया। कंपनी एफसीआई को भंडारण सुविधा मुहैया कराती और उसके एवज में उससे शुल्क लेती है। ऐसे में हाल ही में बनाए गए कृषि कानूनों से जोड़ कर इसे देखना बिल्कुल गलत है। अडानी एग्री लाजिस्टिक्स के उपाध्यक्ष पुनीत मेंदीरत्ता ने कहा कि हमारे खिलाफ यह दुष्प्रचार किया जा रहा है कि हमें पहले से ही पता था कि सरकार कृषि कानून लाने वाली है। इसलिए हमने पंजाब के मोगा जिले में पहले से सायलो का निर्माण कर लिया था, जिसमें अनाज का भंडारण किया जा सके। सच्चाई यह है कि भारत जैसे विकासशील देशों में स्टोरेज इन्फ्रा की बड़ी कमी है। भंडारण सुविधाएं नहीं होने के कारण बहुत सारा अनाज खराब हो जाता है और खाने योग्य नहीं रहता। उन्होंने कहा कि कंपनी डेढ़ दशक पहले से इस क्षेत्र में कार्यरत है और एफसीआइ को सेवा प्रदान कर रही है। मेंदीरत्ता के मुताबिक अडानी ग्रुप का भविष्य में कांट्रैक्ट फािर्मंग करने का भी कोई इरादा नहीं है। वह इसके लिए जमीन का अधिग्रहण भी नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि अडानी एग्री लॉजिस्टिक्स मात्र अनाज के भंडारण एवं परिवहन का काम करती है, किसानों से अनाज खरीदने का काम एफसीआई करती है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget