गहलोत-पायलट खेमे में तालमेल बैठाने के प्रयास साबित हो रहे बेमानी

pilot gehlot

जयपुर

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट  के बीच तालमेल बैठाने की पार्टी हाईकमान की कोशिश फिलहाल असर नहीं दिखा पा रही है। सचिन पायलट ने एक बार फिर निशाना साधाते हुए कांग्रेस हाईकमान को याद दिलाया कि राजस्थान में जब उन्होंने कांग्रेस की कमान संभाली थी, तब कांग्रेस महज 21 विधायकों पर सिमटी हुई थी। पायलट ने पार्टी को याद दिलाया कि जिन कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मेहनत की वजह से पार्टी सत्ता में आई अब उनका सम्मान करें। उन्हें राजनीतिक नियुक्तियों से नवाजें। पायलट ने कहा कि दो साल बीत चुके और कार्यकर्ता इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उम्मीद है पार्टी इस माह नियुक्तियां देगी। इतना ही नहीं, सचिन पायलट ने एक बार फिर उस कमेटी को जिंदा कर दिया, जिसे कांग्रेस नेता अहमद पटेल के निधन के बाद दफन माना जा रहा था। 

दरअसल पायलट खेमे की वापसी के वक्त कांग्रेस नेतृत्व ने सचिन पायलट की शिकायतों के समाधान के लिए एक तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया था। इस कमेटी में अहमद पटेल, संगठन महासचिव वेणुगोपाल और राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी अजय माकन को शामिल किया गया था। पायलट ने कहा कि भले ही अहमद पटेल नहीं रहे हैं, लेकिन उन्हें उम्मीद है कि कमेटी जल्दी ही अपनी रिपोर्ट देगी और कांग्रेस नेतृत्व रिपोर्ट के मुताबिक ही कार्रवाई करेगा।  संगठन महासचिव वेणुगोपाल का दो दिन पहले जयपुर आना भी चर्चा का विषय रहा। पायलट ने कहा कि वेणुगोपाल से संगठनात्मक विषयों पर चर्चा हुई। दरअसल वेणुगोपाल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कांग्रेस नेता सचिन पायलट दोनों से मिले थे। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget