नजरअंदाज न करें जोड़ों में होने वाला दर्द

knees

निंग, जॉगिंग, स्किपिंग के दौरान घुटनों में होने वाले दर्द को ज्यादातर लोग ओवर एक्सरसाइज़ की वजह मानकर इग्नोर कर देते हैं जो सही नहीं। दरअसल लोगों को लगता है कि आर्थराइटिस यानि गठिया की समस्या बुजुर्गों की बीमारी है, लेकिन अब ऐसा बिल्कुल भी नहीं। तो समय रहते हल्के-फुल्के और लगातार होने वाले दर्द में डॉक्टर से संपर्क जरूर करें और उचित सावधानियां बरत कर इस समस्या से छुटकारा पाएं।

क्या हैं इसके लक्षण

पहले-पहले तो मरीज को अक्सर बुखार आता रहता है, मसल्स में दर्द बना रहता है, ज्यादातर थकान महसूस होती रहती है, भूख कम लगती है और वजन भी कम होने लगता है। बॉडी के अलग-अलग ज्वॉइंट्स में इतना दर्द होता है कि उन्हें हिलाने पर ही बहुत ही ज्यादा तकलीफ होती है, खासकर सुबह के वक्त। जोड़ों में जहां-जहां दर्द होता है, वहां सूजन आना भी इस बीमारी में आम है। जोड़ों के इर्द-गिर्द सख्त सर्कुलर गांठें जैसी उभर आती हैं, जिनमें हाथ-पैर हिलाने पर आवाज आती है। बॉडी के किसी भी पार्ट्स को हिलाने पर दर्द, जलन और सूजन की तकलीफ होती है।

बचाव

  •   जब भी नहाएं गुनगुने पानी से नहाएं।
  •   ज्यादा वजन से आपके घुटनों और कूल्हों पर दवाब   पड़ता है इसलिए अपना वजन हमेशा नियंत्रित रखें।
  •   दवाएं ले रहें हैं, तो इन्हें वक्त पर लें। इससे अकड़न  
  •     और दर्द में राहत मिलती है।
  •   वैसे एक्सरसाइज और हल्के-फुल्के योग भी इसमें 
  •    काफी फायदेमंद होते हैं, लेकिन इसे करने से पहले 
  •     एक्सपर्ट की सलाह बेहद जरूरी है।
  •   रोज़ाना कम से कम 8-10 पानी जरूर पिएं।
  •   शराब और ध्रूमपान से परहेज करें।
  •   न्यूट्रिशन से भरपूर डाइट लें।
  •   समस्या को जल्द से जल्द दूर करने के लिए डॉक्टर 
  •     के संपर्क में रहें।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget