नवजात के माता-पिता ने मांगी इच्छा मृत्यु

गोरखपुर

दिव्यांग बच्चे के जन्म के मामले में आईएमए के कूदने के बाद अब नवजात के माता-पिता ने इच्छा मृन्यु की मांग करनी शुरू कर दी है। उनका कहना है कि डॉक्टरों की लापरवाही के चलते उनके दिव्यांग बच्चे को आजीवन हंसी का पात्र बनकर जीना पड़ेगा। गौरतलब है कि इस मामले माता-पिता की शिकायत पर गलत रिपोर्ट देने के आरोप में चार महिला डॉक्टरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज है। उनके अल्ट्रासाउंड सेंटर सील कर दिए गए हैं। उधर, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) डॉक्टरों से मुकदमे वापस करने, अल्ट्रासाउंड सेंटरों की सील खोलने और दोबारा मेडिकल बोर्ड का गठन कर नए सिरे से जांच कराने की मांग कर रहा है। अब आईएमए की इस मांग के खिलाफ नवजात के माता-पिता ने मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने कहा है नया मेडिकल बोर्ड गठित करने की मांग इसलिए हो रही है कि रिपोर्ट बदलवाई जा सके। यदि अल्ट्रासाउंड सेंटरों की सील खोली जाती है तो उसके पहले हमें बच्चे के साथ इच्छा मृत्यु की अनुमति दे दी जाए। 

नवजात के माता-पिता ने प्रेस कांफ्रेंस कर डॉक्टरों पर नवजात के जन्म के बाद मामले को दबाने के लिए तरह-तरह से दबाव बनाने का आरोप लगाया। पिता अभिषेक पांडेय और माता अनुराधा पांडेय ने प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हमारे गांव के लोगों से हमारे बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। उन्होंने कहा कि उनकी आवाज दबाने के लिए उन पर हमला कराया जा सकता है। उन्होंने आईएमए से अपील की कि दोषी डॉक्‍टरों को बचाने की कोशिश की बजाए उन्‍हें इंसाफ दिलाएं।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget