भारतीय गेंदबाजों ने तोड़ा 10 साल पुराना रिकॉर्ड


चेन्नई

टीम इंडिया के गेंदबाजों ने एमए चिदंबरम स्टेडियम में इंग्लैंड के साथ जारी पहले टेस्ट मैच की इंग्लैंड की पहली पारी में दूसरे दिन तक 19 नो बॉल डाले, जोकि भारतीय टीम के गेंदबाजों के 10 साल बाद सर्वाधिक नो बॉल हैं। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में किसी भी टीम के गेंदबाजों द्वारा डाला गया यह दूसरा सर्वाधिक नो बॉल है। भारतीय गेंदबाजों ने इससे पहले 2010 में कोलंबो में तीसरे टेस्ट के दौरान श्रीलंका की पहली पारी में 16 नो बॉल फेंके थे। हालांकि भारत ने उस मैच को जीता था। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में सर्वाधिक नो बॉल डालने का रिकॉर्ड श्रीलंकाई टीम के गेंदबाजों के नाम है, जिन्होंने 2014 में चटगांव में दूसरे टेस्ट में बांग्लादेश की पारी के दौरान सर्वाधिक 21 गेंद नो बॉल डाले थे। तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और लेफ्ट आर्म स्पिनर शाहबाज नदीम ने छह-छह, ईशांत शर्मा ने पांच और अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने दो गेंद नो बॉल फेंके हैं। ईशांत 2010 में भी कोलंबो में उस टेस्ट टीम का हिस्सा थे, जिसके गेंदबाजों ने 16 नो बॉल फेंके थे और ईशांत ने उस समय भी दोनों पारियों में चार-चार नो बॉल फेंके थे। ईशांत के बचपन के कोच श्रवण कुमार ने कोविड-19 महामारी के कारण अभ्यास की कमी होने की इसका इशारा किया। ईशांत साइड स्ट्रेन से उबरने के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में लौटे हैं। चोट के कारण वह ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नहीं गए थे। श्रवण ने आईएएनएस से कहा, ‘कोविड-19 लॉकडाउन के कारण वह लंबे समय से अभ्यास से दूर रहे हैं। इसके अलावा, उनके पास मैच अभ्यास का अभाव था। आम तौर पर तेज गेंदबाज नो बॉल फेंकते हैं, जब उन्हें विकेट नहीं मिलते हैं और निराशा में भी वे ऐसा करते हैं। कई बार कप्तान तेज गेंदबाजों पर विकेट हासिल करने के लिए दबाव भी डालते हैं और यही कारण है कि नो बॉल गेंदबाजी करते हैं’।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget