347 निजी अस्पतालों के फायर सेफ्टी की जांच

 ठाणे

ठाणे नगर निगम (TMC) ने शनिवार यानी 13 फरवरी को कहा कि बार-बार ताकीद के बावजूद शहर के 65।20 प्रतिशत निजी अस्पतालों ने अग्नि सुरक्षा संबंधी नियमों का पालन नहीं किया गया है। एक आधिकारिक प्रेस रिलीज में नगर निकाय ने कहा कि शहर में 347 निजी अस्पताल हैं। TMC ने इन अस्पतालों का अग्नि सुरक्षा संबंधी आकलन किया था। उसने कहा कि उनमें से 28 बंद पाए गए हैं बचें 319 अस्पतालों में से 111 अस्पतालों ने अग्नि सुरक्षा से संबंधित नियमों का पालन किया है और उन्होंने अपने प्रमाण पत्र भी जमा कराए हैं। प्रेस रिलीज में कहा गया है कि शेष 208 अस्पतालों ने आग से सुरक्षा से संबंधित नियमों का पालन नहीं किया है और न ही प्रमाण पत्र जमा कराया है। यह कुल अस्पतालों का 65.20 प्रतिशत है। रिलीज में कहा गया है कि नगर निकाय ने इन 208 अस्पतालों को नियमों का पालन करने के लिए 22 फरवरी तक का समय दिया है। इस अवधि में नियमों का पालन करने में विफल रहने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

अस्पताल में आग लगने की कई घटनाएं 

हाल ही में मुंबई के अस्पतालों में आग लगने की कई घटनाएं सामने आई है। 12 अक्टूबर 2020 में एक अस्पताल में आग लगने से काफी नुकसान हुआ था। यहां शाम में आग लग गई जिसके बाद अस्पताल के अधिकारियों को 40 मरीजों को निकटवर्ती अस्पतालों में स्थानांतरित करना पड़ा। इसमें एक मरीज की मौत हो गई है, जिसको दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया था।

 वहीं जांच के बाद पता चला कि शाम पांच से छह बजे के बीच जेनरेटर के ज्यादा गर्म होने की वजह से उसमें आग लग गई थी। जिसके कारण पूरे अस्पताल में आग फैल गई।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget