मध्य प्रदेश में दर्दनाक हादसाः 60 यात्रियों से भरी बस नहर में गिरी

47 यात्रियों की मौत

accident

भोपाल

मध्य प्रदेश के सीधी में मंगलवार सुबह हुए बस हादसे ने कम से कम 47 परिवारों को उजाड़ दिया है, जिनके अपने बस के साथ 20 फीट गहरी नहर में समा गए। 7 खुशकिस्मत मौत के मुंह से निकलने में कामयाब रहे तो 5 अब भी लापता हैं। हादसे के बाद चालक की गलती बताई गई। शॉर्टकट चुनने, संकरे रास्ते और ओवरटेकिंग जैसी वजहों को जिम्मेदार बताया गया तो अब पता चला है कि 32 सीटों वाली इस बस में 60 से अधिक लोग सवार थे। ओवरलोडिंग को लेकर अब प्रशासन पर भी सवाल उठ खड़ा हुआ है। 

पुलिस ने बताया कि मिनी बस का चालक कूदने में कामयाब रहा और फरार हो गया, जबकि 5 और यात्री अभी लापता हैं। रेवा के आईजी पी उमेश जोगा ने कहा कि प्राइवेट ट्रेवल एजेंसी की बस में 60 से अधिक यात्री थे। बस की गति बहुत तेज थी और इस वजह से चालक ने नियंत्रण खो दिया और बस बाणसागर नहर में जा गिरी।

आईजी ने बताया कि 37 शव बस के भीतर बरामद हुए तो 9 नहर में बह चुके थे। हादसे में 24 पुरुष, 21 महिलाएं और दो बच्चों की मौत हुई है, जोकि सीधी, सिंगरौली और सतना जिलों के रहने वाले थे। मारे गए लोगों में आधों की उम्र 20 से 30 के बीच है। ये सतना और रीवा में सरकारी नौकरी के लिए परीक्षा देने जा रहे थे। 

सीधी के एसपी पंकज कुमावत ने कहा, ''शुरुआती जांच में पता चला कि चालक ने छुइहा घाटी में जाम होने की वजह से चालक ने शॉर्ट रूट अपनाया और एग्जाम के लिए लेट हो रहे परीक्षार्थी चालक से स्पीड बढ़ाने को कह रहे थे। इसी दौरान चालक ने बस से नियंत्रण खो दिया और यह नहर में जा डूबी।'' एसबी ने कहा, '' नहर के पास रहने वाली 17 साल की एक लड़की शिवरानी लोनिया और उसके भाई रामप्रसाद ने कम से कम 7 लोगों को नहर से निकालने में मदद की। 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 5-5 लाख रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया है। लापता लोगों की तलाश अब भी जारी है और बाहर निकाले गए लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget