आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से रखें लीवर को हेल्दी

ayurved

लीवर हमारे शरीर का एक अहम हिस्सा है, जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है. स्वस्थ शरीर और स्वस्थ रहने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है लीवर का स्वस्थ रहना. लीवर के स्वस्थ न रहने पर पीलिया, फैटी लीवर या लीवर सिकुड़ने की समस्या भी उत्पन्न होने लगती है. आपको बता दें कि लीवर को स्वस्थ रख के हम कई बीमारियों से भी बचे रहते हैं. लीवर कार्बोहाइड्रेट को स्टोर करने से लेकर प्रोटीन बनाने, पोषक तत्वों को अवशोषित करने और यहां तक कि पित्त बनाने में भी लीवर की अहम भूमिका होती है. अगर हमारे लीवर में कोई कमी आ जाती है. तो हमारे शरीर के बाकी अंगों पर भी नुकसान होना शुरू हो जाता है. लीवर पूरे शरीर को डिटॉक्स करता है, लीवर शरीर के विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का भी काम करता है. लीवर को हेल्दी रखने के लिए कई तरह की जड़ी बूटियां, फल एवं सब्जियों का इस्तेमाल कर सकते हैं. तो चलिए आज हम आपको ऐसे आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के बारे में बताते हैं जो आपके लीवर को हेल्दी रखने में मदद कर सकते हैं. 

आंवलाः

आंवले को विटामिन सी का सबसे अच्छा सोर्स माना जाता है. विटामिन सी लीवर के आस पास फैट को जमा होने से रोकता है. आंवले के सेवन से फैटी लीवर की समस्या से बचे रहते हैं. आयुर्वेद में आंवले को स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद बताया गया है. आंवले को आप कच्चा, जूस और पाउडर के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं.

लहसुनः

लहसुन को खाना पकाने में स्वाद को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन आयुर्वेद में लहसुन को स्वास्थ्य के लिए बहुत गुणकारी माना जाता है. लहसुन के सेवन से कई स्वास्थ्य समस्याओं से बचे रहते हैं. लहसुन की चाय का सेवन करने से फैटी लीवर की समस्या से बचे रहते हैं. लहसुन के सेवन से लीवर को हेल्दी रखा जा सकता है.

त्रिफलाः

त्रिफला का नाम आयुर्वेद की उन दुर्लभ जड़ी बूटियों में शामिल है, जो शरीर को कई समस्याओं से बचाने का काम कर सकती हैं. हरीतकी, बिभीतकी और आंवला जैसी तीन गुणकारी जड़ी बूटियों को शामिल करके त्रिफला को बनाया जाता है. त्रिफला मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाने और लीवर को हेल्दी रखने में मददगार माना जाता है.


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget