सभी अपने घरों का फायदा लेते हैं


नई दिल्ली

 भारत के खिलाफ खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड को 317 रन से करारी हार का सामना करना पड़ा था। इस जीत से भारत ने सीरीज में 1-1 से बराबरी भी की। मैच के दौरान जब इंग्लैंड पहली इनिंग में बल्लेबाजी कर रहा था तो पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने चेन्नई की पिच पर सवाल उठाए थे। इस पर कई क्रिकेटरों ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की थी, जिसमें अब भारतीय ओपनर रोहित शर्मा का नाम भी आ चुका है। हाल ही में एक प्रेस वार्ता के दौरान रोहित ने कहा कि सभी अपने घरों (होम ग्राउंड) का फायदा लेते हैं। बीसीसीआई द्वारा जारी एक वीडियो में रोहित शर्मा ने कहा, पिच दोनों टीमों के लिए एक समान रहता है और मुझे नहीं पता कि ये चर्चा क्यों हो रही है। यदि लोग बात करतें है कि पिच ऐसा नहीं वैसा होना चाहिए, इंडिया में पिच सालों से ऐसा ही बनते आ रहा है। उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता कि कोई बदलाव हुआ है या होना चाहिए। सभी अपने घरों (होम ग्राउंड) का फायदा लेते हैं। जब हम बाहर खेलने जाते हैं, तो बाहर भी वहीं होता है तो कोई हमारे बारे में सोचता नहीं कि हमको ये करना है या ये करना है, तो हम क्यों सोचें। भारतीय ओपनर ने कहा, हमें जो अच्छा लगता है और जो हमारी टीम की पसंद है वो करना चाहिए। इसी का मतलब है कि होम और अवे (घर से बाहर दूसरे देश में) का लाभ। नहीं तो आप इस लाभ को निकाल दो, ऐसे ही क्रिकेट खेलो आईसीसी को बोलो कि एक रूल बनाओ कि पिच ऐसे ही होनी चाहिए। इस हिसाब से पिच भारत और अन्य देशों में बननी चाहिए। रोहित ने कहा जब हम बाहर जाते हैं तो वह भी हमारे लिए मुश्किल पैदा करते हैं। उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि अपना स्किल ऐसे टाइम ऐसे मौके पर दिखाना चाहिए कि जहां पर स्थिति चुनौतीपूर्ण हो। हालांकि चांस हो सकते हैं कि आपको इसकी कीमत चुकानी पड़े, लेकिन ये मायने नहीं रखता, मायने रखता है उससे सीखना। हमारी टीम के लिए भी यही है कि टीम ऐसे कंडिशन्स में खेलना पसंद करती है, जहां सभी चीजें हमारे खिलाफ हों। हम जब भारत के बाहर खेलने जाते हैं तो पिच को लेकर शिकायत नहीं करते। हम अपना खेलते हैं और जो होता है वह होता है, जिसके बाद हम आगे बढ़ जाते हैं। मेरा मानना है कि सभी को ऐसा ही करना चाहिए। उन्होंने अंत में कहा कि क्रिकेट के बारे में बात करो पिच के बारे में नहीं। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget