पर्यटन के नाम पर अनधिकृत विस्तार

दहानु

समुद्री किनारों पर बनाए गए रिसॉर्ट्स में पर्यटन विकास के नाम पर किए गए अनधिकृत विस्तार का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। दहानू शहर में 0.5 एफएसआई अनुमति को दरकिनार करते हुए दहानू तट के साथ सीआरजेड प्रभावित क्षेत्रों में स्वीकृत अनुमति से अधिक होटल, रिसॉर्ट, बंगले आदि का निर्माण किया गया है। सूत्रों का कहना है कि इस तरह के 25 से अधिक निर्माण किए गए हैं।

गौरतलब हो कि दहानू का विस्तृत समुद्र तट पर्यटकों के आकर्षण  का केंद्र है। इस तट पर स्थानीय लोगों को रोजगार प्रदान करने के लिए पर्यटन विकास निगम द्वारा होटल और रिसॉर्ट्स को मंजूरी दी गई है। रिसॉर्ट के लिए 0.5 एफएसआई निर्माण की अनुमति है क्योंकि दहानु का तटीय क्षेत्र सीआरजेड से प्रभावित है। 0.5 के वास्तविक क्षेत्र से चार गुना अधिक क्षेत्र में दहानू, चिखला, घोलवाड़, बोरडी में रिसॉर्ट, निवास, होटल बनाए गए हैं। पर्यटन विकास निगम से अनुमति के नाम पर सीआरजेड अधिनियम का घोर उल्लंघन किया गया है। एक साल पहले राजस्व विभाग द्वारा अनधिकृत रिसॉर्ट को नोटिस जारी किए गए थे। ग्राम पंचायत की अनुमति से चिखला, घोलवाड़, बोरडी क्षेत्रों में समुद्र तट पर बंगले बनाए गए हैं।तटीय क्षेत्रों में अनधिकृत निर्माण बढ़ रहा है क्योंकि इसके खिलाफ प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। दहानू के तहसीलदार राहुल सारंग ने कहा है कि जल्द ही सीआरजेड प्रभावित क्षेत्रों में अनुमति से अधिक निर्माण करने वाले रिसॉर्ट्स के खिलाफ तोड़क कार्रवाई की जाएगी।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget